बुधवार, 26 अप्रैल 2017

भक्त हारे भी और जीते भी।

एम0सी0डी0 चुनावों में आप पार्टी की पराजय और भाजपा की विजय पर बहस लगातार जारी है, हालांकि आप पार्टी की हार और भाजपा की जीत ये दो अलग-अलग मुद्दे हैं। फिर भी भाजपा वाले इस परिणाम को मोदी लहर के लगातार बने रहने के रूप में प्रचारित कर रहे हैं और केजरीवाल की दो साल पहले हैरतअंगेज और चमत्कृत कर देने वाली जीत को इस समय यह कहकर छोटा साबित करने में लगे हैं कि मोदी इफैक्ट ने आखिरकार दिल्ली वालों की उस चूक को सुधार दिया है। लेकिन यह सवाल फिर भी लोगों के मन में अपनी जगह बनाये हुए है कि दो साल पहले दिल्ली वालों ने केजरीवाल पर भरोसा ज्यादा कर लिया गया था या केजरीवाल ने ज्यादा चतुराई से लोगों को बहका लिया। क्या आज मोदी उसी तरह ज्यादा चतुराई से लोगों को बहकाने में सफल हो रहे हैं? जिस तरह दिल्ली में केजरीवाल की लहर चली थी उसके मुकाबले में मोदी आज भी कहीं नहीं ठहरते हैं। उस समय पूरी दुनियां ने दिल्ली विधानसभा चुनावों पर अलग-अलग तरह से प्रतिक्रियायें दी थी। अभूतपूर्व और चकित कर देनी वाली आप पार्टी की उस लोकप्रियता को आज दो साल भी नहीं हुए कि अपनी अलोकप्रियता के कारण यही पार्टी आज एक मजाक का विषय बन चुकी है और उस समय के कथित क्रान्तिकारी हीरो केजरीवाल आज मसखरे और मूढमति साबित हो गये हैं। ऐसे में सवाल उठना स्वाभाविक ही है कि जिस आप पार्टी ने कांग्रेस और भाजपा को लगभग धूल में मिलाते हुए तहलका मचा दिया था उनकी लोकप्रियता की उम्र इतनी कम कैसे रही। ऐसे में यह सवाल लोगों में उत्सुकता पैदा कर रहा है कि मोदी लहर की अनुमानित उम्र कितनी होगी। मोदी और केजरीवाल ने अपनी वाचालता, सोशल मिडिया और दूसरे समूहों के साथ जोड-तोड के जरिए अचानक लोकप्रियता पायी है और सत्ता के शीर्ष तक पहुॅचे भी हैं, ये लोग शीर्ष पर कितनी देर टिके रह सकेगें इसका अनुमान लगाना कठिन है। लेकिन इतना तो तय है कि इनकी लोकप्रियता की अवधि लगातार कम होती जाऐगी। हालांकि मोदी भक्त अभी कल्पना भी नहीं कर सकते है कि कुछ ही दिनों में मोदी का भी यही हाल हो सकता है जो आज केजरी का हुआ है। दो साल पहले केजरीभक्त  ऐसी कल्पना भी नहीं कर सकते थे कि इतनी जल्दी इनका इतना बुरा हाल हो सकता है। उस समय ऐसी किसी भी आशंका का अनुमान भी नहीं किया जा सकता था उस समय कोई कहता भी तो उसकी हॅसी उडाई जाती या उसे पागल ठहराया जा सकता था। फिलहाल भक्तों के लिए यह नाजुक मौका है केजरी भक्त उदास हैं और मोदी भक्त प्रसन्न हैं।


शनिवार, 22 अप्रैल 2017

जिन्ना का जिन्न फिर से हुआ बेकाबू, रविशंकर को जकडा।

जिन्ना की सरपरस्ती में मुस्लिम लीग ने टू नेशन थ्योरी दी थी जिसके अनुसार दो धर्म के लोग एक राष्ट्र में समान रूप से विकास नहीं कर सकते है इसलिए एक साथ रह भी नहीं सकते हैं। इस आधार पर देश के टुकडे किये गये और भारत विभाजन किया गया। लगता है कि जिन्ना का जिन्न, जिसने ना सिर्फ पाकिस्तान बनाया बल्कि उसे मिटाने के कगार पर भी ला खडा कर दिया है, और अब रविशंकर के जरिए भाजपा के सिर चढकर बोलने लगा है। मुसलमानों के बारे में रविशंकर प्रसाद ने जो ताजा बयान दिया है वह इनके बुलंद होते हौसलों का तो सबूत नहीं कहा जा सकता है, बल्कि भाजपा की हताशा इससे साफ नजर आती है। किसी भी पार्टी की सरकार हो वह समाज की विभिन्न मान्यताओं परम्पराओं और विश्वासों को इस तरह चुनौति कभी नहीं देती है जैसी भाषा रविशंकर बोल रहे हैं, यह विभाजनकारी भाषा है। आतंकवादी, पृथकतावादी समाजविरोधी लोग इस तरह नकारात्मक बातें करते रहे हैं लेकिन सरकार इस तरह की बातें करे तो अनुमान लाया जा सकता है कि चीजें सरकार के हाथों से निकलती जा रही हैं। आम आदमी चाहे मुसलमान हो या हिन्दु हो इसके जरिए सरकार क्या साबित करना चाहती है? क्या मुसलमानों के वोट की ताकत अलग और दूसरे लोगों के वोट की ताकत में अन्तर है। या कोई वर्ग दूसरे दर्जे का नागरिक है जो अवांछित है। सरकार को मालूम होना चाहिए कि वह देश की माईबाप बनने की कोशिश ना करे। सरकार एक प्रकार की बडी महापालिका है जिसके पास साफ सफाई से लेकर रक्षा, वित, विज्ञान, न्याय और अन्तर्राष्ट्रीय सम्बन्धों की भी जिम्मेदारी है साथ ही साामजिक सुरक्षा से लेकर रोजगार, शिक्षा, चिकित्सा, आवास की जवाबदेही है। अपना काम छोडकर कर इस तरह लोगों की जात-औकात का मूल्यांकन करना खुली बदमाशी है।  जिसकी ऑख में मोतियाबिंद हो उसे दुनियां बदलने की नहीं अपना ऑख का उपचार करवाने की जरूरत है। भारत जैसा है उसे हर किसी को मंजूर करना ही होगा। भाजपा के हिसाब से भारत नहीं बदलने वाला है इस पर हमेशा से ही ध्यान देने की जरूरत है इतिहास की किसी भी तरह की मनगंढत व्याख्या , द्व्रेषपूर्ण विष्लेषण और तथ्यों के गलत प्रस्तुतिकरण से कोई समस्या हल नहीं हो सकती है मूल बात यह है कि हिन्दु-मुसलमान कोई समस्या है ही नहीं जो लोग इसे समस्या की तरह पेश करते हैं दरअसल यह उनकी राजनीतिक मजबूरी है वे मुसलमान अथवा हिन्दुओं का खौफ बनाकर प्रतिक्रिया में दूसरे तरह के लोगों के ठेकेदार बनने की कोशिश करते हैं यही इनकी कुल राजनीतिक जमा पूॅजी और दर्शन है। यदि कोई इसे यही साबित करने की कोशिश करता है तो फिर वह जातिगत भेदभाव, आर्थिक भेदभाव और सामाजिक भेदभाव जो कि हिन्दु- मुसलमान दोनों ही समुदायों में समान रूप से फैले हैं उनसे मुॅह कैसे चुरा सकता है और उनका समाधान कैसे करेगा?


और अब सोनू की शरारत ।

पिछले कुछ दिनों से अजान और भजन के बीच महाभारत छिडा दिखता है, सोनू निगम के मिजाज में एक हल्कापन तो हमेशा से ही रहा है लेकिन वे इतनी घटिया हरकत करेगें इसकी तो शायद ही किसी को उम्मीद रही होगी। अनायास ही जिस तरह उन्होंने अजान के खिलाफ बात कही उसका कोई प्रसंग ही नहीं था और ना ही कोई जरूरत थी। कमोवेश इसी तरह आमिर खान ने भी जब अनायास ही अपनी पत्नी का हवाला देकर कहा कि भारत  रहने लायक नहीं रह गया है वे कहीं बाहर भी जाने पर विचार कर रहे हैं। इन दोनों के बयानों से लगता है कि सैलीब्रैटी को मोहरा बनाकर  कुछ लोग सजिशन बहस को पर्दे के पीछे से संचालित कर रहे हैं। यह नये किस्म का धंधा बनता जा रहा  हैं जिसमें पैसा और पब्लिसिटी दोनों एकसाथ मिल सकते हैं। इसका मतलब ये कतई नहीं हैं कि सोनू और आमिर कोई मासूम हैं इनके साथ कोई ज्यादती हुई होगी। ये किसी का मोहरा ऐसे ही नहीं बने होगें, इसमें लम्बा राजनीति मोलभाव हुआ हो सकता है और इन्होंने भरपूर कीमत वसूली होगी। इन्होनें चाहे जितनी भी कीमत वसूली हो उससे कई गुना अधिक कीमत इन्हें चुकानी पडी है। और इन दोनांे के लिए यह जर्बदस्त घाटे का सौदा रहा है। बयानों के बाद आमिर और सोनू दोनों की अपनी ही लुटिया डूब गयी। हमें इस राजनीति पर गौर करना होगा। यदि हम आमिर के बयान पर गौर करें तो सवाल उठता है कि क्या भाजपा की सरकार आने से देश का ही चरित्र बदल जाऐगा, किसी सरकार में इतनी ताकत है कि वह देश का चरित्र बदले दे? फिर आमिर ने  भारत के बारे में इतनी बडी बात कैसे कह दी क्या वे भारत को जानते हैं? या फिर उन्होंने मोदी को ही भारत समझ लिया। जाहिर है कि उन्होनें लिखी-लिखाई स्क्रिप्ट पढी। वे जिस खेमे के आदमी हैं उस खेमे को लगता था कि  आमिर के बयान से  उनका पक्ष मजबूत हो जाऐगा और याकार के खिलाफ असहिष्णुता के बारे में उनकी धारणा लोगों में स्वीकृत हो सकती है। आमिर को भी अपने बारे में खामखयाली रही होगी अमूमन इस स्तर पर खामखयाली होना बडी आम बात है।  इन्हें लग सकता था कि इस तरह मोदी सरकार को कटघरे में खडा किया जा सकता है। परिणाम उल्टा ही हुआ, आमिर की जो अपनी इमेज थी वह भी बट्टे खाते में चली गयी। इसी तरह इस बार सोनू निगम ने अघोषित तरीके से सरकारी पक्ष को मजबूती देने के लिए यह स्क्रिप्ट पढी कि अजान से उनकी नींद में खलल पडता है। यह एक राजनीतिक मकसद से दिया गया बयान था जो कि सोनू के गले पड गया और उनके बाल बन गये, इनकी हजामत भी जल्द ही बननी चाहिए इसकी उम्मीद की जा सकती है। कीर्तन हो या अजान हो ये सोये हुए लोगों को नींद से जगाने के लिए ही होते हैं यदि लोग सोये ही रह गये तो फिर अजान और कीर्तन का कोई मतलब नहीं रह जाता है, सोनू भी आध्यात्मिक भाषा में एक प्रकार की मूर्छा/नींद में बोल रहे हैं इस मामले में सोनू को भी अब जागना चाहिए। जिस तरह सोनू ने नफरत फैलाने की कोशिश की वह पूरी तरह निन्दनीय तो है ही बल्कि दण्डनीय भी होना चाहिए। लोगों को याद होगा कि जब लालकृष्ण आडवानी रथ यात्रा लेकर पूरे देश के भ्रमण पर निकले थे तब जयश्रीराम उनका नारा था,  यह शब्द एक राजनीतिज्ञ के मुॅह से निकल कर इतना खतरनाक हो गया कि देश में दंगों की स्थिति आ गयी और आज इस शब्द का ओज, इसकी निष्कपटता और माधुर्य कहीं खो सा गया है। गॉव  कस्बों में जैराम जी की और राम-राम भैया, दुआ सलाम जैसी ग्राह्यता रखते रहे हैं लेकिन गलत मकसद के लिए यही शब्द सामाजिक विभाजन का प्रतीक बना दिया गया है। इसी तरह तुर्की में रूसी राजदूत को गोली मारने के बाद हत्यारे ने जिस तरह अल्लाहू अकबर कहा उसके बाद लोग इस शब्द को सुनकर चौंकते हैं कि कहीं आतंकवादी  ना आ गये हों। फ्रांस से लेकर जर्मनी और दूसरे यूरोपीय देशों में आतंकवादी जिस तरह धार्मिक शब्दों का इस्तेमाल करके लोगों की हमदर्दी हासिल करने की कोशिश करते हैं उसमें हमें फर्क करना चाहिए। आतंकवाद पर हम मौन रहे और धार्मिक शब्दों पर सवाल खडा कर दें यह दूसरे किस्म का आतंकवाद है। इसमें शब्दों का कोई गुनाह  नहीं है, शब्द विवादास्पद इस तरह होते भी नहीं हैं विवादास्पद वे लोग हैं जो शब्दों से उपजे पवित्रतम एहसास को भी कलुषित कर रहे हैं।  इसमें अजान या कीर्तन को जिम्मेदार कैसे ठहराया जा सकता है?


मंगलवार, 18 अप्रैल 2017

राष्ट्रीयता की राहजनी!

इस देश में तथाकथित कम्युनिस्टों के एक गिरोह, कथित प्रगतिशील आंदोलन के स्वनामधन्य पुरोधाओं और वर्तमान में एक छोटे से छिनाल गिरोह ने भारत को एक देश नहीं बल्कि राष्ट्रीयताओं के समूह के रूप में पेश करने की पुरजोर कोशिश की है और तर्क दिया है कि इस उेश में शामिल कोई भी राष्ट्रीयता यदि  इस समूह से अलग होना चाहे तो यह उसका मौलिक अधिकार है, कश्मीर के लाखों निवासियों को उन्हीं की राष्ट्रीयता के लोगों ने  राज्य से धर्म के नाम पर निकाल बाहर किया तब  ये लोग राष्ट्रीय के सवाल की व्याख्या नहीं कर पाये और आपराधिक चुप्पी अख्तियार कर ली। काफी हद तक आततायियों के समर्थन में यह कहकर खडे हुए कि कश्मीरी पंडित हमारे वोट बैंक नहीं हैं वे बीजेपी समर्थक लोग हैं। बडी आबादी को उनके ही राज्य में उनकी ही राष्ट्रीयता के लोगों ने लूटा, बलात्कार किये, हत्यायें की और  घरों पर बाकायदा कब्जा कर लिया गया।  लेकिन राष्ट्रीयता के झंडाबरदार कुछ नहीं बोले और आज तक चुप है।, आज फिर से इस दलील के साथ ये लोग मुॅह उठाये बोल रहें हैं कि यह राष्ट्रीयताओं की आजादी का सवाल है। इनका  खुला मकसद देश की केन्द्रीय सत्ता को कमजोर करने के लिए  सारे पृथकतावादी आंदोलनों को समर्थन देना मात्र है इससे अधिक राष्ट्रवाद की इनकी कोई और समझ नहीं हैं।एक समय बिहार में इसी तरह जाति आधारित राजनीति के लिए कथित कम्युनिस्टों ने यह तर्क दिया था कि समाज में जाति विभाजन और आर्थिक विभाजन एक ही हैं इसलिए पिछडी जातियां सर्वहारा वर्ग में ही आती हैं इस आधार पर सवर्ण, बुर्जआ वर्ग का प्रतिनिधि है इसलिए जातिगत आधार पर राजनीति की जानी चाहिए। कुल मिलाकर लालू, नितिश, पासवान और मायावती जैसे लोगों ने दशकों तक लोगों को इसी तर्क से बेवकूफ बनाये रखा और कम्युनिस्ट इनके पिछलग्गू बने रहे कुछ हद तक आज भी इनकी वैचारिक समझ यही है।  इसी तरह पृथकतावादी आंदोलनों को समर्थन देना इनका लक्ष्य है। यह बहस काफी लम्बी है। लेकिन जो गौर करने की बात है कि मोदी ने इस विरोधाभाष को चतुराई के साथ पकडा, मोदी ने दूसरे तरह के राष्ट्रवाद की अवधारणा पेश की है मोदी का राष्ट्रवाद तीन तलाक, बीफ और राम मन्दिर तक ही बोल पाता है इससे अधिक इनकी भी कोई समझ नहीं हैं कुल मिलाकर इन दो किस्म की मूर्खताओं, धूर्तताओं के बीच राष्ट्र अपना वजूद तलाशने में लगा है। इस बीच मौका है जिसमें मोदी पूरे देश में घूम-घूमकर वोट तलाश रहे हैं और कथित राष्ट्रवादी समूह की अवधारणा वाले लोग देश को तोडने की मंशा के साथ कश्मीरी आतंकवादियों के साथ नारे लगा रहे हैं आजादी! पंडितों से उनकी ही धरती छीन कर ये किस मुॅह से राष्ट्रीयता की दुहाई दे रहे हैं कोई नहीं जान सकता है।


सोमवार, 17 अप्रैल 2017

जमाने के खुदाओ, ज्यादा पत्थर ना चलाओ।

जानकार लोगों का कहना है कि दिल में बुरे खयाल आना बुरा नहीं है लेकिन बुरे खयालों से आदमी का हार जाना बहुत बुरा है। आज दुनियां में अधिकतर तनाव इसी बात के इर्द-गिर्द हैं कि अच्छाई के बारे में मेरी परिभाषा ही अन्तिम रूप से सही है, दूसरे को इसे मानना ही चाहिए। इसी तर्क के सहारे लोग अपनी कथित अच्छाइयों के नाम पर बुराईयों के साथ मजबूती से खडे हैं। हालांकि इसे बहस से तय नहीं किया जा सकता है कि कौन अच्छा है और कौन बुरा है।  इसे तय करने का तरीका दूसरा ही है। फिलहाल कश्मीर में एक पत्थरबाज को जीप से बॉधकर घुमाने का विषय चर्चा में है, हर मामले में सेना के साथ पूरी तरह खडे होने के बावजूद इस घटना के साथ खडा होना लोगों के बीच यदि चर्चा का विषय बन रहा है तो बहुत से लोगों को यह असहज भी  महसूस हो रहा है। अधिकतर लोगों का मानना है कि इससे सेना की प्रतिष्ठा बढी नहीं, यह घटना भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व नहीं करती है इसे क्षणिक आवेग में स्थानीय स्तर पर लिये गये एक तात्कालिक  मामले से अधिक महत्व नहीं दिया जा सकता है और माना जाना चाहिए कि अब इस तरह की घटनायें फौज की तरह से नहीं होगी। सवाल पत्थरबाज की प्रतिष्ठा का नही है, इसमें भारतीय सेना की प्रतिष्ठा का प्रश्न सर्वोपरि है। हराये गये लोगों को सभी विजेता एक तरह से ही पराजित नहीं करते हैं, बदला लेना, बेईज्जत करना या किसी का तमाश बना देना बहुत ही हल्की मानसिकता का लक्षण हैं।  सिकन्दर एक तरह से पुरू को पराजित करता है और बुश दूसरी तरह से सद्दाम को पराजित करता है इसीलिए सिकन्दर, सिकन्दर है और बुश, बुश है।  अमेरिका ने भी वहॉ के मूल निवासियों का सफाया करके भी वहॉ सफलता हासिल की लेकिन भारतीय चिंतन इससे कभी भी सहमत नहीं हो सकता और यही हमारी खूबी है पॉच हजार साल के इतिहास का यही एक फूल है जिससे आज भी पूरा विश्व सुवाषित होता है  हमारे इतिहास में भी खामियंा रही है लेकिन इसका विश्लेषण बडे लोग कर सकते हैं मामूली आदमी छींटाकसी से ज्यादा कुछ कर भी नहीं सकता है। कहने का मतलब हमसे भी गलतियां हो सकती है उसे मानने में कोई हर्ज नहीं है और यही हमारे सही होने का सबसे बेहतर तरीका भी है कि हम बुराईयों  अथवा कमियों के साथ केवल इसलिए ही खडे नहीे हो जाते कि वह हमने की हैं बल्कि हमसे कोई गलती हुई है तो हम उस पर बात करने को बडा जरूरी समझते हैं। अकूत बलिदानों के बाद कश्मीर में लडाई  अब निर्णायक दौर में आ पहुॅची है, यह साबित हो चुका है कि पत्थरबाज किसी विचारधारा का प्रतिनिधित्व नहीं करते बल्कि भारतीय फौज के नरम रूख का फायदा उठा रहे है। आज कथित कश्मीर आंदोलन के पास अपना कोई चेहरा ही नहीं है एक प्रकार की अराजकता है जिसे फाईनल टच देकर कुशलता से समेटे जाने का वक्त आ चुका है इसलिए किसी भी किस्म की नासमझी से फायदा कम नुकसान ज्यादा होगा और  यह समस्या  समाधान में कुछ अतिरिक्त दिन ले लेगी। जिनकी समझ इतनी बचकानी है कि मुॅह पर कपडा लपेटकर ये आंदोलन कर रहे हैं जिस कथित विचारधारा ने इन्हें मुॅह दिखाने के काबिल नहीं छोडा उसकी ताकत कुछ भी नहीं है,  पैलैट गन के चार छर्रों से इनके चेहरे बेनकाब किये जा चुके हैं। दरअसल ये कठपुतलियां है इनकी डोर इनके आकाओं के हाथों में हैं।


रविवार, 16 अप्रैल 2017

तलाक देना बहादुरी नहीं है, कमजोरी है।

आजकल तीन तलाक का मुद्दा जिस तरह बहस के केन्द्र में है। कि मानों यह मुस्लिम समाज की ही समस्या है। हम विस्तार से इसे समझने की कोशिश करेगें तो यह किसी समुदाय या धर्म का मामला है ही नहीं कुछ लोग बेवजह ही इसे धार्मिक मुद्दा बनाकर साम्प्रदायिक माहौल खडा करने और सामाजिक धव्रीकरण करने की कोशिश कर रहे हैं। तलाक समस्या हर समुदाय में है और कमोवेश हर जोडा इससे प्रभावित हो भी सकता है। चाहे वह किसी भी जाति, धर्म और समुदाय से सम्बन्ध रखती हो इससे पीडित हर महिला है, उनके लिए यह पीडादायी समस्या इसलिए अधिक है क्योंकि तलाक के बाद वे आर्थिक रूप से बेसहारा हो जाती है  उनके लिए तलाक केवल पति से अलग होने का मामला भर नहीं रह जाता है बल्कि अस्तित्व का सवाल बन जाता है। फिल्मी अभिनेत्रियां अथवा ताकतवर महिलाओं को तलाक से जरा भी डर नहीं लगता है वे तो इसके लिए मानो तैयार ही रहती हैं यदि जरा भी बहाना मिले तो वे इसके जरिए पति से जिन्दगी भर की आर्थिक सुरक्षा करवा लेती हैं। उनकी जिन्दगी में दस बार भी तलाक हो जाए तो वे आर्थिक रूप से दस गुना सुरक्षित हो जाती हैं। लेकिन मुस्लिम समुदाय से बाहर की गरीब महिला भी तलाक से बुरी तरह खौफजदा रहती हैं। उसकी जिन्दगी में हर क्षण असुरक्षा है। गरीब महिला का  एकमात्र सहारा उनका कमाउ पति है यदि वह बीमार ही हो जाए तो पूरा परिवार ही तलाक से बदतर दशा में आ जाता है। मूलतः यह समस्या महिलाओं की आर्थिक असुरक्षा से जुडा सवाल है हमारा समाज यदि ऐसी व्यवस्था कर सके कि महिलायें भी आर्थिक रूप से सुरक्षित हो सकें तो फिर तलाक की तकलीफ कम की जा सकती है। जो लोग अंहकार में आकर  यूॅ ही पत्नियों को छोड देते हैं उन पर बीस साल के लिए विवाह करने अथवा विवाहेत्तर सम्बन्ध बनाने पर दण्ड का प्रावधान होना चाहिए यदि कोई ऐसा करता है तो उसे जेल भी भेजा जा सकता है। क्योंकि विवाह कोई मजाक नहीं एक पारिवारिक जिम्मेदारी के साथ-साथ सामाजिक, जिम्मेदारी भी है यदि वह अपनी जिम्मेदारी का? मखौल उडाता है तो समाज और कानून को अपनी जिम्मेदारी निभाते हुए उससे सम्बन्ध तय करने चाहिए। साथ ही विवाह के लिए भी कुछ मापदण्ड निर्धारित होने चाहिए जो उन पर खरा उतरे उसके विवाह को ही संरक्षित कानूनी मान्यता मिले अन्यथा कहीं भी किसी  से भी  नैन मिले और विवाह कर लिया, दूसरे दिन तलाक दे दिया यह पशुओं में ठीक हो सकता है लेकिन सभ्य समाज में यह गलत परिणाम देगा, विवाह धर्म का मामला कम  इंसानियत और नैतिकता का मामला अधिक है। यह भविष्य के समाज का प्राथमिक स्कूल भी है जहॉ हम अपने बच्चों को तैयार करके समाज सेवा के लिए भेजते हैं। विवाह कुत्ते बिल्ली का खेल नहीं है यह बडा सामाजिक और नैतिक दायित्व भी है उसे गरिमापूर्ण बनाये बिना हम बेहतर समाज नहीं बना सकेगें। इसलिए इसे किसी जाति धर्म के दायरे से बाहर निकाल कर बडे परिपेक्ष में देख जाना चाहिए।



शनिवार, 15 अप्रैल 2017

आतंकवाद को राजनीतिक समस्या कैसे कहा जा सकता है?

इसे उनकी शोहरत कहें या रूसवाई लेकिन जुमलेबाजी का कहीं भी जिक्र हो तो लोग मोदी की ओर ही इशारा समझते हैं, अमित साह ने बाकायदा यह कहकर इस धारणा को मोदी जी के साथ चस्पा कर दिया कि मोदी जी का यह कहना चुनावी रणनीति में चलता रहता है और इसमें मोदी जी का इस तरह का जुमला फेंकना सही था। जो आदमी इसके बावजूद चुनाव जीतते जा रहा हो जाहिर ही है कि वह इसे अपनी अदा माने बैठा है और यह मानकर चल रहा है कि लोग उसकी इस अदा पर फिदा हैं। लोगों का किसी पर फिदा होना उसकी प्रमाणिकता साबित नहीं कर सकता है। लोग अभिनेताओं-अभिनेत्रियों से लेकर  बुरे आदमियों की अदाओं पर भी फिदा होते रहते हैं , राजा भैय्या, मुख्तार अंसारी, , अतीक अहमद, शहाबुद्दीन से लेकर आशाराम और रामदेव पर भी लोग फिदा हैं। सबके अपने अपने तर्क हैं कोई किसी दूसरे को सहमत नहीं कर सकता है। इसी तरह मोदी जी के भी अपने भक्त हैं। लेकिन जुमलेबाजी को लेकर बडे मामले हल नहीं किये जा सकते हैं और इस तरह के खतरे सामने आने लगे हैं, कश्मीर इसका एक छोटा सा  उदाहरण है। पहले मोदी ने पी0डी0पी0 को आतंकवादियों की पार्टी कहा और फिर उसी से गठबन्धन कर लिया, साथ ही साथ पाकिस्तान में आतंकवादियों से मिलने अपने प्रतिनिधि वैदिक को भेज दिया और खुद बिन बुलाये पाकिस्तान चले गये और भी इसी तरह की तमाम उटपटांग हरकतें की इसका खामियाजा अब कश्मीर में दिखाई पडने लगा है। वैंकय्या नायडू अब कहने लगे हैं कि कश्मीर समस्या कांग्रेस की देन है और पटेल को पूरी छूट नहीं दी गयी। पहली बात तो यह है कि पटेल भी कांग्रेसी ही थे वे भाजपा के पूर्वज नहीं हैं यह हमेशा याद रखना चाहिए। दूसरी बात यह है कि मोदी इस दावे के साथ सत्ता में आये कि मैं सब ठीक कर दूॅगा अब वे किस मर्ज की दवा साबित हो रहे हैं? वैंकय्या  को यह साफ करना चाहिए। यदि कांग्रेस की ही चूक थी तो तुम्हारे पास करने को क्या योजना है, 56 इंच का सीना कहॉ है?  देश को इस तरह गुमराह करना ठीक नहीं है। ऐसा भी नहीं है कि कश्मीर में कोई बहुत बुरे हालात हों कम से कम 90 के दशक जैसे हालात फिलहाल नहीं है फिर भी चिंता कहीं अधिक इसलिए होती है कि  वर्तमान नेतृत्व नादान और बचकाना है। फैशनपरस्त और आत्ममुुग्ध लोग किसी भी बडी समस्या से बडी समस्या खुद बनते जा रहे हैं।  अन्यथा हमारे देश की महान सेना कभी इस तरह का काम नहीं कर सकती थी कि शिखण्डी की ओट में शहर की गश्त करे। अर्जुनों और हमारे सैनिकों में यही अन्तर था कि  इन्हें किसी शिखण्डी की ओट लेने की जरूरत कभी नहीं पडी और ना ही दुश्मन की हम कभी इस तरह बेईज्जती करते हैं। जिन्होनें हमारे जवानों के साथ बुरा व्यवहार किया यदि हमने भी उसी तरह का व्यवहार किया तो दोनांे में फर्क कैसा? कुल मिलाकर कश्मीर तो बहाना है जो विवाद करने पर आमादा है उनसे निबटने के हजार तरीके हैं सेना अच्छी तरह जानती है। कोई कश्मीर  की आजादी के तर्क देता है कि इसके ऐतिहासिक आधार है लेकिन कोई इनसे पूछे कि 1947 में पाकिस्तान के निर्माण के कौन से आधार थे? उस समय तुम्हारी ताकत थी कि अपनी बात मनवाने के लिए देश में दंगे करवा सको, लूटमार, हत्या, आगजनी करवा सको, अराजकता फैला सको तो तुमने मौके का फायदा उठा लिया बिना किसी ऐतिहासिक आधार के देश के टुकडे करवा लिए लेकिन अब यह सम्भव नहीं हैं इसलिए हथियार उठाकर तुमने युद्ध शुरू किया है तो देश की सेना उसे कुचलकर ही रहेगी चाहे कुछ भी हो जाए इतना तो तय है।





देश को मांमू बना रहे हैं!

पिछले कुछ दिनों से कश्मीर से जिस तरह के विडियों की बाढ सी आ गयी है उससे सवाल उठने लगा है कि कि मोदी की कश्मीर नीति आखिर है क्या? गौरक्षक अभियान और एप्टी रोमियों अभियान की तरह कश्मीर की सडकों पर सडकों पर आतंकवादी के समर्थक खुलेआम सुरक्षाबलांे के साथ बदतमीजियां कर रहे हैं ताकी किसी तरह उनका धैर्य टूटे, कोई बडी दुर्घटना हो और अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर यह बहस का मुद्दा बने। दूसरी ओर जिस तरह सुरक्षा बलों ने एक पत्थरबाज को  जीप से बॉध कर घुमाया उसकी भी सराहना नहीं की जा सकती है हांलाकि मोदी भक्त इससे बडा धन्य महसूस कर रहे हैं लेकिन एक प्रतिष्ठित सैन्य बल का प्रतिनिधित्व करने वाले पक्ष को अधिक गम्भीरता की जरूरत है। यदि केवल इतने से ही पत्थरबाजी रूक जाती तो यह काम काफी पहले ही किया जा चुका होता। इसी तरह कुलभूषण मामले में जिस तरह पाकिस्तान ने भारत का ललकारा है उससे मोदी खेमा ही नहीं वह तो बेशर्म है ही, लेकिन पूरा देश सकते में है कि आखिर मोदी कर क्या रहे हैं? केजरीवाल की तरह कोई गैरजिम्मेदार आदमी विधानसभा चुनाव जीत कर सरकार बना ले तो बहुत खतरा नहीं है यह देश के अन्दर का मामला है। उनकी 16000 रूपये की भोजन थाली का भुगतान यह देश सहन कर लेगा, इतना नुकसान बर्दाश्त किया भी जा सकता है लेकिन देश की सत्ता के केन्द्र दिल्ली में कोई आदमी केवल नौटंकीबाजी के दम पर सत्ता में आ जाए और अपनी बेवकूफियों, भक्तों के जयजयकारों, रैलियों  के उन्माद, आत्ममुग्धता और विपक्ष के सन्निपात की दशा में वह देश को तबाह कर दे तो  बचाव का कोई रास्ता नहीं है।  हमें केजरीवालों और मोदियों की राजनीति की कीमत अब चुकानी ही पडेगी केजरीवाल की कीमत हम चुका सकते हैं लेकिन मोदी की राजनीतिक कीमत यह देश कैसे चुका सकेगा यह चिंता लगातार बढती ही जा रही है। केजरीवाल ने भी कहा कि मैं सब ठीक कर दूॅगा लेकिन हमारे पास उन्हें ठीक करने का मौका था और दो साल के अन्दर ही उन्हें उनकी राजनीतिक हैसियत बता दी गयी, लेकिन मोदी के मामले में अभी उन्माद इसलिए थमता नही दिखाई पड रहा है क्योंकि कोई पहलकदमी को तैयार नहीं हैं। सोमनाथ मन्दिर के पंडों की तरह उनके भक्त अब भी मोदी की जयजयकार में डूबे हैं और लोगों को भरोसा दिला रहे हैं कि मोदी आज ये कर देगें और कल को वो कर देगंे लेकिन हालात दिन ब दिन खराब होते जा रहे हैं। हम जानते हैं कि यही भाजपा कंधार में देश के दुश्मनों को बाकायदा इज्जत के साथ छोडकर आई थी और तब मोदी ने विरोध में भाजपा से इस्तीफा नहीं दिया था मोदी हों या बाजपेई इनकी सोच, कार्यशैली और सीमा इससे ज्यादा नहीं है। अब यह सन्देश देने की कोशिश की जा रही है कि मोदी से सवाल पूछने का मतलब देशद्रोह है!  मोदी की जिम्मेदारी लता मंगेशकर और अन्ना जैसे तमाम लोगों ने ली थी। केजरीवाल के बारे में तो अन्ना मॉफी मांग चुके हैं कि वह गलती थी। लेकिन लगता है कि मोदी के मामले में मांफी मांगने में अन्ना अब भी हिचक रहे हैं जबकि सारा तमाशा उजागर हो चुका है बाद में तो मांगी मांगने का भी वक्त नहीं बचेगा अन्ना साहब। ये सब लोग मिलकर देश को खुलेआम ‘मामू‘ बना रहे हैं।

गुरुवार, 13 अप्रैल 2017

समस्याओं पर पलती राजनीति।

जाति समस्या और इसके सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक विभाजन के मामले में पूरा पंडित और दलित दर्शन लगभग हास्यास्पद स्थिति में है, कम से कम राजनीतिक परिपेक्ष में दलित समस्या को जिस तरह पेश किया जाता है उसका कोई ओर छोर दिखाई नहीं पडता है। दोनों पक्ष जातिवाद को तथ्य माने बैठे हैं जबकि यह तथ्य नहीं परिणाम है। इस बात को पूरी चतुराई से छुपाने की कोशिश की जाती है कि हमारी राजनीतिक, सामाजिक, नैतिक और धार्मिक व्यवस्था की बुनियाद में भयानक गडबढ है जिसके कारण असमानता बनी हुई है और जातिवाद के तौर पर हमने उसे एक आधार  दे दिया। इस असमानता की हम बहुत दिनों से जातिवादी आधार पर  व्याख्या करते रहे हैं। यह अब सम्भव नहीं रह गया है। असमानता और भेदभाव के हजारों स्तर पैदा हो रहे हैं जो जातिवादी तर्क के एकदम उल्ट हैं आज एक कथित दलित बहुत मजबूत स्थिति में भी हो सकता है और एक कथित सवर्ण दयनीय दलित अवस्था में भी हो सकता है, इसके उलट राजनीतिक और स्वतंत्र विचारक यह साबित करने की कोशिश करते हैं कि जातिवाद बहुत पुरानी व्यवस्था है उसके आधार बहुत मजबूत है वे आज इसके तर्क देते हैं, वे समझ ही नहीं पाते कि इस तरह की जाति व्यवस्था का वर्तमान में कोई आधार नहीं है और ऐतिहासिक  तौर पर इसका कोई आधार रहा भी हो तो आज वह अप्रासंगिक हो गया है। जब हम आजादी की बात करते हैं तो उसका मतलब केवल अंग्रेजों के अधिपत्य से आजादी नहीं था बल्कि विचारों की हर प्रकार की जकडन से आजादी भी था। पुराने प्रसंगों के आधार पर आज के जातिवाद को जायज किसी भी हाल में नहीं ठहराया जा सकता है। लेकिन आज जातिवाद क्यों टिका है इस पर कोई बात नहीं की जाती है। क्योंकि जातिवाद का अब राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है। यह स्पष्ट हो चुका है कि वर्तमान सामाजिक और आर्थिक असमानता को दूर करने में वर्तमान व्यवस्था असफल रही है इसलिए मण्डल कमीशन हो या फिर दूसरे प्रावधान के जरिए यह साबित किया जा रहा है कि  असमानता का कारण केवल जातिवाद है और इसे आरक्षण के जरिए हल किया जा रहा है यह सरासर भ्रामक और शरातपूर्ण राजनीति है। एक समय इसका भी अपना महत्व था लेकिन अब  इसे राजनीतिक हथियार के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। यह व्यवस्था लोगों को रोजगार देने में असफल रही है इसलिए जातिवाद का इस्तेमाल करके लोगों को आपस में लडवाया जा रहा है, सामाजिक विद्वेष को हवा दे रही है। कहा जा सकता है कि आज जातिवाद इन राजनीतिक दलों की जरूरत बन चुका है वे इसे मिटाने में नही बल्कि इसका राजनीतिक दोहन करने में लगे हैं जातिवादी समीकरणों के आधार पर पार्टियां चुनाव में अपने उम्मीदवार खडे करती हैं और लोगों की जातिवादी भावनाओं को हवा देती है। इस भावना को भडकाती है। यह राजनीतिक दलों की समस्या नहीं है बल्कि उनके लिए एक राजनीतिक मुद्दा है जिसका भरपूर दोहन सवर्णवादी और दलितवादी दोनों ही कर रहे हैं।


हम बुराई को हराते नहीं, नई तरह से बुराई को चुनते हैं।

दिल्ली उपचुनावों में आप पार्टी के उम्मीदवार की जमानत जब्त होना उसी तरह की एक बडी घटना है जैसी घटना भारतीय राजनीति में लगभग दो साल पहले उस समय घटी थी जब दिल्ली में आप पार्टी 70 में से 67 सीटों पर चुनाव जीतकर अचानक ही सत्ता में काबिज हो गयी। और इतने कम समय में ही उस लोकप्रिय पार्टी के प्रत्याशी की आज दिल्ली में ही जमानत जब्त हो गयी, पेंडुलम का इस तरह अचानक दूसरे छोर पर पहुॅच जाना भारतीय राजनीति की बडी घटना मानी जा सकती है। आप पार्टी जैसी आज है वैसी ही उस समय भी थी जब उसे लोगों ने सिर पर बिठा लिया था, यदि उस समय लोगों से पहचानने में गलती हुई तब भी इसमें आप पार्टी का कोई दोष साबित नहीं किया जा सकता है। कुछ लोग कह सकते हैं कि केजरीवाल ने लोगों को बहका लिया, तब यह मानने में क्या अडचन हो सकती है कि आज मोदी लोगों को बहका रहे हैं और कल कोई दूसरा भी बहका ही लेगा। सवाल पार्टियों की गुणवत्ता से ज्यादा वोटरों की समझ का है कि उनकी हैसियत अपने प्रतिनिधियों का चुनाव करने की रह भी गयी है या वे शरणागति चुनने तक ही वे सिमित रह गये हैं। केजरीवाल की शरण ठीक रहेगी अथवा मोदी या कांग्रेस में से किसके दरबार में मत्था टेका जाए जनता की भूमिका केवल इतना ही तय करने तक सिमित रह गयी है।  इससे यह भी संकेत भी मिलता है कि हमारा लोकतंत्र बहुत ही अपरिपक्व और बचकाना है। केजरीवाल ने दावा किया था कि इन्टरनैट वाई-फाई के जरिए मुफ्त कर दूॅगा, बसों में मार्शल तैनात कर दूॅगा, कदम कदम पर सी0सी0टी0वी0 लगवा दूॅगा, दिल्ली को बलात्कार रहित बना दॅॅूगा, सरकार के मंत्री सरकारी आवासों में नहीं रहेगें, सरकारी वाहनों का इस्तेमाल नहीं करेगें आदि-आदि। इसी तरह  मोदी जी ने दावा किया कि मेरा सीना 56 इंच का है मैं पाकिस्तान की खटिया खडी कर दूॅगा, कश्मीर से 370 हटा दूॅगा, माओवाद को चुटकी में मसल दूॅगा,  कालाधन ले आउॅगा, दो करोड रोजगार हर साल पैदा करूॅगा, गंगा को साफ कर दूॅगा ,भारत से गंदगी हटवा दॅूगा। लेकिन तीन साल बीत जाने के बाद भी कुछ होता दिखाई नहीं पड रहा है। अब वे 2019 के चुनाव में जुट गये हैं, ऐसे समय में कोई नया मोदी पैदा होकर नये वादे करने लगे तो यह भीड उसके पीछे हो लेगी। यह वोटरांे की आशा नहीं बल्कि हताशा है कि वे कभी इस द्वार को खटखटाते हैं कभी उस द्वार पर दस्तक देते हैं। लेकिन वे विश्वास से नहीं कह सकते हैं कि  ये मेरे प्रतिनिधि है हकीकत में जनता किसके पीछे खडी होगी यह तय करने में      हजार किस्म के सर्वेक्षण, जोड-तोड, खरीद फरोख्त का मुख्य किरदार होता है।  और दो-चार पार्टियां ही इसे तय करती हैं। इस समय राजनीति में जोकरों ने नायकों की भूमिका अख्तियार कर ली है और लोगों को भी समझ में नहीं आ रहा है कि नायक कौन है और विदूषक कौन है? तमाम रंगे हुए लोग नायक होने का भरम देने में सफल होते रहे हैं कि वे ही असली शेर हैं।



बुधवार, 12 अप्रैल 2017

तीन तलाक पर राजनीति।

उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनावों में जीत के बाद से  राजनीतिक नारेबाजी का पूरा ऐजेण्डा ही बदला गया लगता है। योग, कालाधन, स्वच्छ भारत, और शौचालय जैसे नारे अब पृष्ठभूमि में डाल दिये गये हैं। आजकल फिजाओं में तलाक और गौरक्षा का शोर है। तलाक भी केवल मुस्लिम महिलाओं के बारे में ही, बाकी समुदाय में तलाक का बाकायदा प्रावधान ना होने के बावजूद बडी संख्या में जिस तरह पति पर निर्भर महिलायें असहाय अवस्था में चली जाती हैं उनके बारे में कोई बात नहीं की जा रही है। तीन तलाक का मतलब भी यही दिखाने की कोशिश की जा रही है कि यह ऐसी कुप्रथा है जो कि एक खास समुदाय की महिलाओं को ही तकलीफ दे रही है, और उन तक ही सिमित है, हमें उन्हें किसी तरह बचाना है। हद तो तब हो गयी जब एक लम्पट मानसिकता वाली साध्वी ने खुलेआम कहा है कि उस समुदाय की लडकियां हमारे समुदाय के लडकों से प्रेम निवेदन करें तो वे आराम से रह सकेंगंी। इस बयान का तीन तलाक अभियान के प्रणेताओं ने कोई विरोध नहीं किया और ना ही कोई आपत्ति जताई, जाहिर है कि इस बयान का वे भी समर्थन करते हैं। इसका मतलब निकला जा सकता है कि यह बयान अधिकृत रूप से भाजपा का बयान  है।  जबकि यह पूरी तरह पागलपन भरा बयान है। ऐसा कहना गलत है  कि किसी भी समुदाय में तीन तलाक की प्रथा है क्योंकि मुस्लिम समुदाय के सभी पुरूष अनिवार्य रूप से अपनी पत्नियों को तलाक देते हों ऐसा देखने में नही आता है, अधिकतर जोडे विवाह करके आराम से उसी तरह रहते हैं जैसे किसी भी दूसरे किसी समुदाय के परिवार रहते हैं। यदि यह प्रथा होती तो हर विवाहित जोडे में तलाक की अनिवार्य रस्म होती, वास्तव में जिसे प्रथा कहा जा रहा है वह प्रथा नहीं मानसिकता है ठीक वैसे ही जैसे कि मुस्लिम समुदाय के अलावा जितने भी समुदाय हैं उनमें भी पुरूष अपनी पत्नियों को तलाक देते रहते हैं। कुछ मामलों में तो बिना पत्नी को बिना सूचना के ही छोड दिया जाता है जबकि वे  आर्थिक मामलों में पूरी तरह पति पर निर्भर होती हैं। और तलाक के बाद किसी आर्थिक सहायता का भी कोई पालन नहीं करता है।  बहुत से ऐसे ख्यातिनाम लोगों के उदाहरण भी हैं जो कथित तौरा पर हिन्दु हैं जिन्होंने शहर में जाकर अपने नये परिवार बसा लिए और गॉव में पत्नी उनके लिए करवा चौथ का व्रत रखती आ रही है। इसलिए इस तरह के मामलों में राजनीति करने और  नये किस्म के घालमेल करने कह बजाए इस मामले पर खुलकर बात की जानी चाहिए। पागल साघ्वी या दूसरे लोग इस तरह बयान दे ंतो उन पर ना सिर्फ मुस्लिम समाज की ओर से बल्कि हिन्दु समाज की ओर से भी आपत्ती जताई जानी चाहिए कि सारे हिन्दुओं के तुम ठेकेदार कब से हो गये?



रविवार, 9 अप्रैल 2017

मोदी की असली ताकत भक्त नहीं, विरोधी हैं।



पहलू खान की हत्या को लेकर मोदी, वसंुधरा और भाजपा के लोगों को लोगों द्वारा सवालों के कटघरे में लाया जा रहा है। इन लोगों का सवाल यह नहीं है कि एक आदमी को भीड दिनदहाडे खुलेआम कैसे मार सकती है? इस वहशी, जालिमाना,  आदिम कबिलाई न्याय पर सत्ता मौन कैसे है? स्वतः संज्ञान लेने वाली अदालतों, पुलिस, खुफिया विभाग और  तमाम मानवाधिरवादी संगठनों की सक्रियता उस तरह नहीं आई जैसे  कि किसी भी संवेदनशील समाज में होना चाहिए। जो लोग सवाल भी उठा रहे हैं वे इसे अल्पसंख्यकों पर अत्याचार की तरह दिखा रहे हैं, मोदी की यह खुशनसीबी है कि उन्हे चाहे भक्त बहुत काबिल ना भी मिले हों लेकिन विरोधी हद दर्जे के नाकाबिल मिले हैं। किसी आदमी की हत्या कर दी जाती है और हम साबित करने में लगे है कि वह इसलिए मारा गया क्योंकि वह मुसलमान था, मोदी भी यही साबित करना चाहते थे लेकिन इसे वे अपने मुॅह से कहें तो नुकसान हो सकता था अपनी बात वे विरोधियषें से कहलवाने में काफी कुशल हैं या कहा जा सकता है कि उनके विरोधि इतने मूर्ख हैं कि वे मोदी के जाल मे असानी से आकर फॅस जाते हैं। मोदी जी अपनी मुद्राओं, हाव-भाव, तेवर और अंदाज से वे केवल इशारा करते हैं और  कांग्रेस से लेकर ,मुलायम, मायावती, वामपंथी और भी तमाम  लोग उसकी जिस तरह व्याख्या  करते हैं इससे धुव्रीकरण और तीव्र हो जाता है।  इन मामलों में कुछ गैरजिम्मेदार लोग इस तरह प्रतिक्रिया करते हैं कि जैसे उन्होनें अल्पसंख्यकों, जातियों का ठेका ले लिया है, हत्या उनके लिए उतनी महत्वपूर्ण नहीं है जितना कि जाति और धर्म है। ऐसे वक्त भी वे वोटों की राजनीति से उपर नहीं उठ पाते हैं लोग समझ जाते हैं कि चाहे भाजपा और उनके सहयोगी संगठन साम्प्रदायिकता करते हैं लेकिन इनके विरोधी कम खतरनाक साम्प्रदायिक नहीं हैं। इससे ज्यादा उन्हें कोई समझ नहीं है। गुजरात दंगों की जिस तरह व्याख्यायें की गयी उसने मोदी या इस तरह की ताकतों को लगातार मजबूत ही किया और परिणाम सामने है कि दिल्ली फतह के बाद अब देश के सबसे बडे राज्य उत्तरप्रदेश में भी इन्हीं ताकतों को सत्ता मिल गयी है। यह रूझान कहॉ तक जाऐगा कहना कठिन है। लेकिन इतना तो कहा जा सकता है कि मोदी जो बात इशारों में कहते हैं उसमें एक प्रकार की पर्दादारी है लेकिन कथित प्रगतिशील ताकतें जिस बेहूदे तरीके से प्रतिक्रिया करते हैं उसके बाद लोगों का मोदी के पक्ष में झुकने का तर्क समझ में आता भी है और कोई आश्चर्य भी नहीं करता है।  इसलिए व्याख्या का इतना महत्व बताया गया है, यह अर्थ का अनर्थ भी कर सकती है। भक्तों को तो सिर्फ गाली गलौच के कुछ करना ही नहीं है। जब सारा काम मोदी के विरोधी ही कर दे रहे हैं तो फिर चुनाव सभा को सम्बोधित करने और मन की बात कहने के सिवा मोदी के पास करने को कुछ बचता भी नहीं हे बाकी समय वे उन परियोजनाओं का उद्घाटन करने में बिता देते हैं जिन्हें पूर्ववर्ती सरकारों ने लागू किया था।  मोदी की कुशलता देखिए इसके लिए वे पहले की सरकारों को गालियां भी देते हैं और उनके गीत भी गाते हैं  वे दोनों काम एक साथ भी कर लेते हैं। कल शेख हसीना जब गुलाबजामुन के डिब्बे लेकर आयी तो वे गुलाब जामुन मोदी की जुमलेबाजी के लिए नहीं थे, वे इस देश के उस इतिहास को सलाम कर रही थी जिसे मोदी गाली देते हैं। मोदी को कुछ तो शर्म आई ही होगी कि इतने शादार मंहगे सूट पहनने के बाद भी इंन्दिरा गॉधी के जलवे के सामने वे कहीं भी नहीं ठहरते हैं। वक्त इतने बेहतर तरीके से आईना दिखाते रहता है लेकिन हम जानबूझ कर भी अनजान दिखने की कोशिश करते हैं।

शनिवार, 8 अप्रैल 2017

ससंद की और अम्मा की कैंटीनें।

अम्मा कैंटीन और संसद कैंटीन में समानता होते हुए भी इनमें बुनियादी भिन्नता है, दोनों का स्वाद अलग, अंदाज अलग और माहौल अलग है। एक माल-ए-मुफ्त है, लजीज है, एफरात है  दूसरा वोट, रहम और अनुदान जैसी तमाम मजबूरियों का फल है।  अम्मा कैंटीन की मूल अवधारणा पर जिस तरह अनेकों राज्य जिस तेजी से योजनायें अमल में ला रहे हैं उससे सवाल उठना स्वाभाविक है कि क्या ये सभी राज्य इसकी मूल अवधारणा से सहमत है। इस पर बात किये जाने की तत्काल जरूरत है। क्या यह वाकई लोककल्याणकारी नजरिया है कि इस तरह कम से कम कीमत पर लोगों का पेट भरा जा सकता है। यह विचार कुछ आगे बढे तो बात यहॉ तक जा सकती है कि  आदमी को भोजन की भी कोई जरूरत नहीं उसे नियमित अंतराल में कुछ विटामिन की गोलियां, कैप्सूल और इंजैक्शन दिये जा सकते हैं जिससे वह ताकत और स्फूर्ती महसूस कर सके और जरूरी काम कर सके। पूछा जा सकता है कि किसी भी सभ्य समाज में भोजन क्या पेट भरने का ही नाम है या यह हमारी व्यक्तिगत, पारिवारिक, सामाजिक और मानवीय प्रक्रिया का अनिवार्य और महत्वपूर्ण हिस्सा है। हम पैट्रौल की टंकी नहीिं है कि हमारे लिए भोजन केवल यांत्रिक जरूरत जैसा हो। एक आदमी रोजी-रोटी की तलाश में कोई भी काम करता हो उसमें उसकी सारी संवेदनायें विकसित, पुष्पित और पल्लवित होती हैं। घरेलू सामान खरीदने से लेकर हमारे परिवार के सामने भोजन की थाली के रूप में आने तक उसका एक विज्ञान है और विकासक्रम है। इसे कमतर नहीं किया जा सकता है और ना ही इसे नजरअंदाज किया जा सकता है। कल को सरकारें नोटबंदी की तरह रातों-रात कैंटीन बंदी का फरमान लागू कर दे ंतो आदमी कहॉ जाऐगा? कम से कम भोजन की गरिमा को इस तरह कमतर नहीं किया जाना चाहिए। हर आदमी को ऐसा माहौल मिलना ही चाहिए कि वह भोजन के मामले में इस तरह से मजबूर ना हो कि कम पैसा होने के कारण वह खास प्रक्रिया से भोजन लेने को मजबूर है। मोदी जी ने कहा था कि हम लोगों को इस काबिल बनाऐगें कि वे सब्सिडी लेने की मजबूरी से बाहर आयें और आर्थिक रूप से सशक्त हों। लेकिन कैंटीन की यह भोजन व्यवस्था साबित करती है कि अब राजनीतिज्ञों के पास ऐसा कोई विचार नहीं रह गया है कि लोग को आर्थिक रूप से इतना मजबूत कर सके कि वह लोगों को भोज पर आमंत्रित कर सकें। अब सब्सिडी के भोजन पर निर्भरता का दौर बढता जा रहा है। यह कमजोर होते भारत का लक्षण है बावजूद इसके कि  बाहर से भारत को चमकता हुआ दिखाया भी जाता है लेकिन बडी संख्या में राज्य इस योजना को जिस शान से लागू कर रहे हैं लगता है कि जैसे यह महान विचारक्रान्ति हो। इसे पूरे परिपेक्ष में गहराई से समझे जाने की जरूरत है। भीख में मिला भोजन कितना ही पौष्टिक क्यों ना हो उसकी तासीर जहरीली ही होती है और अपनी कमाई की रूखी-सूखी रोटी भी आत्मिक उर्जा से आदमी को नहला देती है। इसलिए रोटी के सवाल को इतने सतही ढंग से हल करने की कोशिश करना ठीक नहीं लगता है।



शुक्रवार, 7 अप्रैल 2017

धर्म, संस्कृति और राष्ट्र क्या खाक समझ में आता है?


सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से गौरक्षक दल के बारे में जो सवाल पूछा है वह सरकार को असहज स्थिति में डाल सकता है। इसी तरह का सवाल सुप्रीम कोर्ट ने आदिवासी सुरक्षा दल के नाम से सक्रिय संगठन सलवा जुडूम के बारे में भी पूछा था और अंततः उसे प्रतिबन्धित कर दिया गया। कथित गौरक्षा दल ने कहीं भी गौ रक्षा की हो ऐसा  इस पूरे अभियान में दिखाई नहीं दिया अलबत्ता रक्षा के नाम पर लोगों पर हमला जरूर किया गया और कुछ मामलों में जान भी ले ली गयी, इससे गौरक्षा कैसे हो पायेगी यह समझना और समझाये जाने के इंतजार में शायद सुप्रीम कोर्ट भी है इसी लिए कोर्ट की ओर से सरकार को नोटिस जारी किया गया है। इस मामले में सरकार बचाव की मुद्रा में है क्योंकि इन हमलावर गतिविधियों को सरकार का ना सिर्फ समर्थन है बल्कि काफी हद तक संरक्षण भी है। इन्हें गौरक्षक दल कहना भी ठीक नहीं है, दरअसल ये झगडा दल हैं, कहीं ये गाय के नाम पर झगडा करते हैं, कहीं ये युवक-युवतियों की मित्रता के नाम पर झगडा दल हैं, कहीं ये लव जिहाद के नाम पर झगडा करते हैं, कहीं दूसरे बहाने से झगडा करते हैं, ये रक्षा किसी की भी नहीं करते केवल खूबसूरत नामों से लोगों पर हमला करते हैं। चाहे ध्येय कितना ही ठीक हो लेकिन अराजक भीड को इस तरह खुला छोड देना वाकई गम्भीर चिंता की बात तो है ही। ये सडक पर ही सुनवाई करते हैं और दण्ड भी मौके पर ही तत्काल दे देते हैं। आम धारणा है कि ये लोग एक समुदाय को निशाने पर लेकर ही अपनी कार्यवाही चलाते हैं इसलिए काफी हद तक जितना इनका विरोध होना चाहिए उतना ही उनका समर्थन भी दिखाई पडता है यदि इसे समर्थन ना भी माना जाए तो कम से कम  इनकी गतिविधियों पर लोगों ने खामोशी तो अख्तियार कर ही रखी है। बर्तोल्त ब्रैख्त की कविता कभी वे उनके लिए आये और मैं कुछ नहीं बोला, इस माहौल में काफी समझ में आती है। लोग इस तरह भी सोच सकते हैं यह सोचना काफी कठिन है। पाकिस्तान में धर्म की बेअदबी के नाम पर भीड किसी को भी मार सकती है ऐसा वहॉ बाकायदा कानून है। लगभग वैसी ही मानसिकता हमारे यहॉ भी स्थापित करने की कोशिशें लगातार हो रहीे हैं  धर्म, संस्कृति, नियम, कायदा और कानून को हम भीड के हाथांे जाते हुए देख रहें हैं। सवाल उठता है कि इसमें सरकारों का क्या हित है? दरअसल यह सरकारों की मजबूरी है कि वह उन लम्पटों को भी सत्ता में हिस्सेदारी दें जिनके कंधो पर चढकर ये सत्ता तक पहुॅचे हैं। रात में टार्च लेकर ट्रकों की तलाशी लेने में एक प्रकार का सत्ता सुख तो है ही। संस्कृति के नाम पर जब आप किसी की पिटाई सडकों पर खुलेआम करने लगते हैं तो उसमें एक रोमांच की अनुभूति तो होती ही है। इनकी हैसियत के अनुसार इनका इतना ही हिस्सा बनता है। ये कोई इतने असरकार तो हैं नहीं कि मोदी से मंत्रालय मांगने लगें, जिनकी हैसियत थी उन्हें मोदी जी ने गोआ और मणिपुर में मंत्रालय भी दिये अपनी पार्टी में प्रदेश प्रमुख भी बनाया, असम में तो मुख्यमंत्री तक बनाया लेकिन ये बेचारे, लेकिन विकृत मानसिकता के लोग इतना ही कर सकते हैं और इतना भी नहीं समझते हैं कि ये इस्तेमाल हो रहे हैं ऐसे लोगों को धर्म, संस्कृति और राष्ट्र क्या खाक समझ में आ सकेगा?


चाहे देश का विभाजन रहा हो या देश में विभाजन, यह गलत है।

माना जाता है कि साम्प्रदायिक राजनीति द्विअर्थी संवाद की तरह काम करती है, यहॉ पर द्विअर्थी का मतलब यमक अलंकार नहीं है बल्कि भाव-भंगिमा, अंदाज, स्वर के उतार चढाव और चेहरे के बदलते रंगों और मंतव्यों से है। आप कोई बात कहें कामुक मानसिकता उसका इस तरह चित्र बना लेती है जिसका कोई मतलब ही नहीं, यही उसकी कथित रचनात्मकता है जिसका सामान्य आदमी अनुमान भी नहीं लगा सकता है। साम्प्रदायिक राजनीति और मानसिकता भी इसी तरह अपना कथित रचनात्मक खेल खेलती है। अल्पसंख्यकवाद से लेकर, राष्ट्रवाद, संस्कृति, राष्ट्रगीत, राष्ट्रगान, योग, असहिष्णुता, खाने की आजादी, गौरक्षक दल, तलाक, लव जिहाद  या  धर्म की आजादी जैसे मुद्दों का मतलब केवल इतना रह गया है जैसे कि कोई द्विअर्थी संवाद करे। आप कहें कुछ लेकिन उसका अभिप्राय मतलब कुछ और ही होता है। ऐसे में यह सवाल उठता है कि यह जहर आखिर आता कहॉ से है? उन नेताओं से जिन्हें जनता चुनती है? अथवा वे नेता जो जनता में यह भावना पैदा करने की हैसियत रखते हैं। दोनो ही बातें गलत हैं। कम से कम भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के शानदार इतिहास पर नजर डालने से यह साफ हो जाता है कि हमारे नेता बहुत उॅची काबिलियत के लोग थे जिन्हें जनता ने बहुत करीब से जनसंघर्षों की आग में तपते निखरते देखा। लेकिन राजनीति के अपने तकाजे हैं वे केवल सद्इच्छाओं से तय नहीं किये जा सकते हैं। आजादी के संघर्ष में हमारे पास सशस्त्र संगठन नहीं था जोकि इन अराजक, हिंसक, लुटेरों ,कातिल तत्वों पर नकेल कस सकता। निहत्थे अहिसंक लडाई का एक पक्ष तो ठीक था कि हम अंग्रेजांे के खिलाफ लोगों में नैतिक साहस पैदा करें वह काफी हद तक सफल भी रहा, लेकिन हमारे पास वैकल्पिक सुरक्षा नहीं थी जिन्ना इस बात को जानते थे , लिहाजा समाज में अराजकता पैदा हो गयी जाहिर ही है कि गॉधी इससे डर गये, कोई भी होता उसे डरना ही पडता ऐसे समय में  दूसरा कोई उपाय भी नहीं बचता है,  परिणामस्वरूप विभाजन हुआ और उन सभी सवालों पर हमेशा के लिए पर्दा पड गया जिसकी खातिर आजादी की इतनी कठिन जंग चली थी। कमोवेश आज फिर से वही हालात हैं बेरोजगारी चरम पर है, महंगाई से लेकर सामाजिक सुरक्षा, शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यावरण, जैसे तमाम मुद्दे पूरी भयावहता से मुॅह बाये खडे हैं लेकिन अब संस्कृति, धर्म, राष्ट्रवाद के नाम पर द्विअर्थी संवाद की भाषा माहौल में असरकारक होती दिखाई पड रही है। यह सब अनायास ही नहीं है। 

बुधवार, 5 अप्रैल 2017

विजय माल्या और पराजित किसान।

बच्चों को धर्मों के झगडों के बारे में तो कुछ पता नहीं होता है, लेकिन इन धर्मों का आधार रही कुछ कहानियां दिल की गहराई में उतर जाती है इन्हीं में से एक सेंटाक्लाज की कहानी भी है। किस तरह सेंटाक्लाज एक परिवार की दुखभरी दास्तान को चुपके से सुनते हैं और उतनी ही खामोशी से उनकी मदद करते हैं इसी तरह हमारे यहॉ भी कहा जाता है कि किसी को एक हाथ से मदद करो तो दूसरे हाथ को भी पता नहीं चलना चाहिए। लेकिन किसानों को मदद के नाम पर जितना प्रचार किया जाता है अक्सर वह अभियानों का रूप ले लेता है। फिलहाल उत्तर प्रदेश के किसान उसी जलालत से दो चार हो रहे हैं ऐसा लगता है कि जैसे किसानों ने कोई पैसे का गबन कर लिया हो या  उन्होनें भ्रष्टाचार किया हो जबकि किसानों की यह हालत सरकारी नीतियों के कारण हुई है, वे गुनहगार नहीं बल्कि पीडित है उन्हें इस पीडा का मुआवजा तो दूर, जीवित रहने के लिए भी जो मदद की जा रही है वह नाकाफी है और लगता है कि जैसे उन पर बडा एहसान किया जा रहा हीै। जबकि सरकारें माल्या और सुब्रत रॉय की भी मदद करती रही हैं यदि अदालत हस्तक्षेप ना करती तो ये दोनों महानुभाव कितना डकार गये पता भी नहीं चलता। कॉरपोरेट घरानों के अरबांे-खरबों रूपये यूॅ ही राईट ऑफ कर दिये जाते हैं। सरकार द्वारा इनको दी जाने वाली सब्सिडी, दूसरी सहूलियतें , खुशामदों और उठाये जाने वाले नाज-नखरों का तो कोई हिसाब ही नहीं। कहने का मतलब यदि वोटों की राजनीति ना हो तो कोई किसानों को पूछने वाला भी नहीं है। यह स्थिति ठीक नहीं है। किसानों को या किसी भी दूसरे पेशे को यदि अस्तित्व के संकट से गुजरना पड रहा है तो इसे किसानों की समस्या से अधिक व्यवस्था की समस्या माना जाना चाहिए और इसे चुनावी मुद्दे से परे अधिक गहराई से सुलझाये जाने की जरूरत है। दाता और भिखारी वाले सम्बन्ध ठीक नहीं हैं किसानों को अनुदान के तौर पर नहीं बल्कि उनके अधिकार के तौर पर समाज और सरकार को उनके साथ खडा होना चाहिए। चुनाव हर साल तो होते नहीं फिर क्या हमें अपनी समस्या सुनाने के लिए पॉच साल का इंतजार करना होगा! यह महज चुनावी वादा पूरा करने का सवाल नहीं है बल्कि ऐसा बुनियादी सवाल है जो इस देश की जडों से जुडा है और केवल यू0पी0 के ही किसानों का सवाल नहीं है बल्कि पूरे देश के किसानों का सवाल है।



सोमवार, 3 अप्रैल 2017

रोमियो, नुक्कड पर कम और उॅचे पदों पर ज्यादा है।

पहली नजर में यू0पी0 के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ की कार्यशैली से असहमति दिखाई नहीं दे रही है, कम से कम विरोध तो दिखाई नहीं दे रहा है। हांलाकी उनका यह तरीका कारगर हो पायेगा ऐसा बिल्कुल नहीं लग रहा है। सडकों पर छेडखानी करने से रोकने पर किसी को कैसे एतराज हो सकता है? लेकिन क्या यह काम केवल पुलिस का ही है कि वह छेडखानी रोके? सडकांे की जाने वाली छेडखानी को इस तरह रोकने का दावा करने वाले लोगों को कास्ंिटग काउच से लेकर उस पूरी व्यवस्था पर जवाब देना होगा जहॉ कांग्रेस का समय तत्कालीन एक केन्द्रीय मंत्री महिला जज से प्रोन्नति के बदले आपत्तिजनक व्यवहार कर रहा था और यह उस महिला की रजामंदी से हो रहा था। राजनीति में यदि आज महिलाओं का प्रतिशत बहुत असंतोषजनक है तो इसके पीछे यही मनोवृत्ति काम करती है। जमीनी धरातल पर उन्हीं महिलाओं को आगे आने दिया जाता है जो या तो प्रभावशाली हों या फिर समझौतापरस्त हों, कितने बडे स्तर पर इस तरह के रोमियो राजनीति और दूसरे उॅचे पदों पर है इसका कोई अनुमान ही नहीं लगाया जा सकता है। लगभग हर महिला को किसी न किसी मान्यवर जिसे सभ्य भाषा में गॉड फादर भी कहा जाता है के सहारे की जरूरत होती ही है। आप पार्टी के नेताओं ने पंजाब चुनावों में कैसी अराजकता की, इसे सारी दुनियां जानती है, इसी पार्टी का एक कथित साहित्यकार, कवि और प्रवक्ता की हैसियत रखने वाला व्यक्ति किस तरह महिला कार्यकर्ता को प्रशिक्षण दे रहा था इसे सारी दुनियां ने देखा  इस लम्पट ने एक महिला कवियित्री को मंच से उस समय सरेआम  कहा कि एक महीना तो जेठ का भी होता है जब कवियित्री ने इसे टोकते हुए कहा कि आप मेरे जेठ समान हैं। ऐसे प्रतिष्ठित लम्पटों के क्या उपचार है योगी जी के पास?   इसलिए एन्टी रोमियो अभियान की की जरूरत से तो इंकार नहीं किया जा सकता है लेकिन इस तरह का अधकचरा विचार लेकर आप कितना समाज सुधार कर पायेगें यह जाहिर है।  आपको पता ही नहीं है कि आप करना क्या चाहते हैं। आपको भक्ति का पता नहीं है लेकिन मन्दिर के नाम पर वोट कैसे बटोरे जा सकते हैं इस आर्ट में आप माहिर हैं।  आपको यह पता नहीं कि हिंसा क्या है? या गाय का हमारे जीवन में क्या महत्व है? हमारा समाज आदिम, क्रूर और वहशी होता जा रहा है इसके सैकडों उदाहरण हैं हमें बुनियाद से ही शुरूआत करनी होगी। जानवर काटे जांए यह गलत है। लेकिन आदमी ना काटे जा सके हमें पहले यह सुनिश्चित करना होगा। आप किसी भी तरह समाज का धुव्रीकरण करने में सफल हो जाते है। यह आपकी कुशलता है लेकिन सफलता पाने के लिए बहुत कुछ करने की जरूरत है। इतने भर से काम नहीं चलेगा!




रविवार, 2 अप्रैल 2017

भक्ति सूत्र की ओट में मनोविकार।

भक्त का मन वाकई भावुक और निर्मल होता है, उसे दुनियांदारी से कोई मतलब नहीं उसका सीधा सम्बन्ध सम्बन्ध परमेश्वर से होता है। इसके विपरीत राजनीतिक भक्त बहुत चालाक होता है वह अपने परेमश्वर का इस्तेमाल अपनी जरूरतें को पूरा करने के लिए करता है जरूरत पडे तो परेमश्वर भी बदल लेता है हकीकत में वह अपना परेमश्वर खुद होता है जैसी उसकी जरूरत बाजार से वैसा परमेश्वर खरीद लाता है। चुनाव से पहले बहुत से टिकट के उम्मीदवारों ने अपन परमेश्वर बदल कर मोदी को अपना लिया और फिर से सत्ता में प्रतिष्ठित हो गये। अन्ना आंदोलन के बाद से सोशल मिडिया में भक्तों की बाढ सी आ गयी है। पहले इन्होनें केजरीवाल की भक्ति की, फिर मोदी की भक्ति का दौर चला जो गिरावट के बावजूद अभी भी फैशन में बना हुआ है अब यू0पी में योगी भक्ति का भी चलन दिखाई पडने लगा है। सवाल उठता है कि जो लोग केजरीवाल, मोदी, योगी या प्रियंका की भक्ति में लीन दिखाई पड रहे हैं इनका मकसद क्या है। क्या ये पिछलग्गू है या वाकई इन्हें  अपने इन कथित परमेश्वरों पर यकीन है कि ये देश और समाज का भला कर सकते हैं असल में चढते सूरज को सलाम करने वाली प्रवृत्ति के कारण ही इस तरह का रूझान दिखाई पडता है काफी हद तक मिडिया मैनेजमेंट और पेड सोशल मिडिया भी इसका कारण है लेकिन आदमी की जो मूल वृत्ति है उसे समझना जरूरी है आदमी चाहता है कि दूसरे मेरे कहे अनुसार चलें। ऐसा करने के लिए उसके पास कोई मंच नही होता है इसलिए वह किसी का पिछलग्गू बन जाता है चाहे वह आशाराम  और रामदेव ही क्यों ना हो। इससे एक प्रकार की प्रतिष्ठा उसे मिल जाती है और वह लोगों को समझाने की हैसियत पा जाता है। आजकल हर कोई दूसरे को समझाने में लगा है और इस तरह वह खुद भी आश्वस्त होना चाहता है कि मैं सही ही हॅू। अन्यथा मुझे कोई मुक्तिदाता मिल जाए तो फिर मैं दूसरो की फिक्र क्यों करूगा, पहले मैं मुक्त हो जाउॅगा लोग इस परिवर्तन को देखेगें और चाहें तो वे भी मुक्त हो जाए ना चाहें तो उनकी मर्जी लेकिन दूसरा मेरे कहे अनुसार चले यह जिद जिस तरह हिंसक होती जा रही है लगता नहीं कि यह मात्र भक्तिभाव है यह विकृत और हिंसक मनोविकार की तरह अधिक दिखाई पडता है।




शनिवार, 1 अप्रैल 2017

सैक्युलर और साम्प्रदायिक एक ही थैली के चट्टे-बट्टे हैं।

इतिहास में जब भी मोदी और योगी के इस चमत्कारिक दौर का जिक्र होगा तब अकबरूद्दीन ओबैशी के उस नफरत भरे भाषण पर भी इतिहासकार गौर फरमायेगें जिसमें उन्होेंने  हिन्दुओं के कत्लेआम की धमकी दी थी। जब लालकृष्ण आडवानी रथ यात्रा पर निकले थे तब लालू ने जिस तरह उनका रथ रोका इससे भी लोग आकलन करेगंे कि जो रथ रोका गया, वह वाकई रोका गया था या उसे  मंजिल तक पहुॅचाने की यह कोई तरकीब थी। कोई रथ यदि अपनी ही रफ्तार से चलता तब भी  उसे मंजिल तक का सफर तय करने में वक्त लगता लेकिन यहॉ तो लालू जैसों ने रथ में जैसे पंख ही लगा दिये! चाहे उनकी मंशा कुछ भी रही हो लेकिन परिणाम यही निकला कि रथ अपनी मंजिक तक पहुॅच गया है और इसमें  उन लोगों का योगदान स्पष्ट दिखता है जो कथित तौर पर रथ रोकने का दावा करते हुए दिख रहे थे।  आज मोदी के रूप में  इन ताकतों का अश्वमेध यज्ञ पूरा हो चुका है। संक्षेप में साम्प्रदायिक ताकतें उतनी मजबूत थी नहीं और ना ही हो सकती थी जितनी मजबूती से सैक्युलर इन्हें लाने पर आमादा थे। कहने का अभिप्राय यह है कि साम्प्रदायिक ताकतों के पास बेचने के लिए एक मन्दिर का सपना था, एक राष्ट्र का सपना है जिसमें वे जर्मनों की तरह श्रेष्ठ नस्ल अथवा धर्म वालों की तरह रहेगें और बाकी उस तरह रहेगें जैसे कि सैकडों साल पहले भटके हुए लोग गलत धर्म में चले गये थे वे या तो अब इनकी शरणागति हों या फिर कदम-कदम पर हिकारत और जलालत भरी जिन्दगी जिंए यह नफरत की राजनीति का नया तरीका है जिसे वर्षों की मेहनत से खोजा गया।  कहने को कुछ भी कहा जा सकता है राष्ट्र, संस्कृति, धर्म और देशभक्ति की बडी-बडी बातें की जा सकती हैं लेकिन राष्ट्र, संस्कृति, धर्म और देशभक्ति की कोई भी परिभाषा ये नहीं देते हैं। दूसरी ओर वे लोग हैं जिनके पास कोई सपना भी नहीं है वे केवल इनके विरोध पर जीने वाले पैरासाईट हैं जिन्हें कथित सैक्युलर कहा जा सकता है। इस देश का अपना एक सपना है जिसमें बेरोजगारी ना हो, किसी प्रकार का उत्पीडन ना हो, अभाव और तिरक्कार ना हा, सबको शिक्षा उपलब्ध हो, समाज रोगमुक्त हो लेकिन अब कोई यह बात नहीं करता ना तो कथित धार्मिक और ना ही कथित सैक्युलर। ये अन्योन्याश्रित हैं, एक दूसरे के एहसानमंद है हैं कि कैसे मिलजुल कर लोगों को बेवकूफ बनाये ही चले जा रहे हैं।



शुक्रवार, 31 मार्च 2017

खाज को खुजलाने की राजनीति आखिर लहूलुहान ही करती है।

चाहे कोई सहमत हो या ना हो मोदी परिघटना और उसके बाद केजरीवाल फैक्टर का एक सकारात्मक पक्ष यह है कि अब भारतीय चुनावी राजनीति में गठबंधन की मजबूरी को विदा कर दिया है। हालिया पॉच राज्यों के विधानसभा चुनावों में भी गठबन्धन जिस तरह पराजित हुआ है उसने उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड में भाजपा और पंजाब में कांग्रेस को छप्पर फाड समर्थन दिया है। किसी भी पार्टी के पास अब ऐसा कोई बहाना नहीं रह गया है कि उन्हें विपरीत विचारधारा से नीतियों सम्बन्धी कोई समझौता करना पड रहा हो। हर किसी के पास स्पष्ट बहुमत है। चाहे गोवा और मणिपुर में गठबंधन की सरकार ही हो वहॉ डील इतनी गहरी हुई कि इनके लिए अब उस तरह का कोई बहाना बनाना  सम्भव नहीं है। जनता की ओर से चाहे इन्हें स्पष्ट बहुमत ना भी मिला हो लेकिन भीतरखाने गतिविधियों के बाद खण्डित जनादेश को भी स्पष्ट बहुमत में बदल दिया गया है। अब सभी विचारधारायें अपने ढंग से काम करने को स्वतंत्र है। यू0पी0 में कथित तौर पर काम शुरू हो भी चुका है, हांलाकी आदित्यनाथ उस तरह की मोहलत नहीं मांग रहे हैं जैसे कि मोदी ने हनीमून की मोहलत मांगी थी। मोदी की राजनीति का कैनवास काफी बडा था, कभी उन्होनें अपने शपथ ग्रहण समारोह को ही चक्रवर्ती सम्राट के राज्याभिषेक की तरह आयोजित करवा कर सुर्खियां बटोरी तो उसके बाद अचानक पाकिस्तान हो आये, फिर विश्व भ्रमण पर निकल गये, कभी सर्जिकल स्ट्राईक और कभी नोटबंदी करते-करते इनके कार्यकाल का दो तिहाई समय बीतने को है। उपलब्धि के नाम पर यू0पी0 चुनाव परिणाम के अलावा और कुछ नहीं है। बहुत से राज्यों में जीते हैं तो बहुत से राज्यों में अपमानजनक तरीके से पराजित भी हुए है। बाकी जगह पर तोड-फोड और खरीद फरोख्त का फार्मूला पूरी बेशर्मी से लागू किया गया है। यू0पी0 की शुरूआत अपने आप में काफी कुछ कह जाती है। राममन्दिर, तीन तलाक, बूचडखाने और दूसरे तमाम मुद्दे जिस तरह उठाये जा रहे हैं उससे साबित होता है कि जिन वायदों पर ये आये थे उनसे अब ये मुॅह मोड चुके हैं। अच्छे दिन से लेकर कालाधन तक हर जुमला अब इनके लिए दुःस्वप्न बनता जा रहा है। हर कोई अच्छी तरह समझता है कि इनकी नीयत खराब है। इन्होनें मन्दिर विवाद खडा किया तो उसके पीछे मकसद मन्दिर बनाना नहीं था बल्कि विवाद पैदा करना था। इसी तरह तीन तलाक को लेकर जो चिंता इनमें दिखाई देती है वह भी चिढाने से ज्यादा कुछ नहीं है। क्या हिन्दू समाज में वैवाहिक विघटन नहीं होते हैं? क्या हिन्दू समाज की महिलाओं की समस्यायें हल की जा चुकी हैं महिला का मतलब युवा महिलायें ही कतई नहीं होती हैं इन्हें लव जिहाद के नाम पर युवा लडकियों की चिंता है तलाक के नाम पर युवा महिलाओं की चिंता है आखिर माजरा क्या है? ये युवा महिलाओं को लेकर काफी संवेदनशील है।  क्या बच्चियों की शिक्षा के बारे में  इन्हें कोई सरोकार नहीं है अथवा उम्रदराज महिलाओं के बारे में इनके पास कोई कार्यक्रम क्यों नहीं है। महिलाओं की चिंता केवल विवाह तक ही सिमित नहीं की जानी चाहिए, यह काफी गम्भीर मुद्दा है तीन तलाक से अधिक चिंता इस बात की की जानी चाहिए कि मन्दिर से लेकर तलाक बूचडखाने से लेकर लवजिहाद और समान नागरिक कानून तक कोई भी बात बिना राजनीति के क्यों नही की जाती है?


सोमवार, 27 मार्च 2017

योगी से पिछड रहे हैं मोदी।

       एक ही राजनीति में भी व्यक्तित्वों का अपना असर होता है, भाजपा के विस्तार में अटल बिहारी वाजपेई से कहीं ज्यादा योगदान के बावजूद लोगों ने लालकृष्ण आडवानी को पंसद नहीं किया तो इसके पीछे कुछ निश्चित कारण रहे थे। उत्तरप्रदेश में आदित्यनाथ योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद से फिर यही चर्चा जोर पकडने लगी है कि क्याा भाजपा की राजनीति के लिए मोदी का विकल्प योगी के रूप में आ गया है? दबे स्वर में ही सही यह चर्चा जोर पकडने लगी है कि 2024 के चुनावों में मोदी की जगह योगी कहीं बेहतर उम्मीदवार हो सकते हैं। सवाल पूछा जाने लगा है कि मोदी का आकर्षण इतना सतही क्यों साबित हो गया कि एक प्रदेश के मुख्यमंत्री के 10 दिन के कार्यकाल में ही  वह कुम्हलाने सा लगा है। कहा जा रहा है कि योगी के व्यक्तित्व में चाहे समझदारी ना हो लेकिन एक प्रकार की ईमानदारी है, वे जब मुसलमानों के प्रति कोई बात करते हैं तो वे उस तरह की नफरत से नहीं भरते जैसे कि मोदी ने टोपी लौटाते हुए नफरत जाहिर की थी, उनके चेहरे का वह भाव किसी को लुभा भी सकता है लेकिन एक नेता के तौर पर उसे अभद्रता ही माना गया। योगी के व्यक्तित्व में भगवा कपडेे पहनने के बाद भी एक प्रकार का आत्मविश्वास दिखता है जो किसी को दस लाख के सूट पहनने के बाद भी हासिल नहीं हो पाता है। योगी के सर्टिफिकेट फर्जी नहीं हैं ना ही उन्होने पढे लिखे होने का दावा किया। वे नाटकबाज भी नहीं हैं चाहे गलत तरीके से ही सोचते और बोलते हैं लेकिन उनके यहॉ सभी समुदाय के लोग पूरे विश्वास से हैं उन्हें समाज से कटा हुआ साबित नहीं किया जा सकता है। कुल मिलाकर यदि योगी के आने से ही मोदी की चमक फीकी पडेगी तो कोई आश्चर्य नहीं होना चाहिए। क्योंकि एक सी राजनीति में होने के बाद भी योगी के सामने मोदी कमजोर ही साबित होगें।  इससे ही पता चलता है कि यदि विपक्ष खुद ही खस्ताहाल ना हुआ होता तो मोदी का तिलिस्म कब का बिखर चुका होता। यह जादू मोदी का कम और विकल्पहीनता का ज्यादा है।

छेडखानी करने वाला लम्पट तो है लेकिन वह रोमियो कैसे हो सकता है?

एन्टी रोमियो आपरेशन शुरू होते ही यू0पी0पुलिस महानिरीक्षक और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ को कुछ नसीहतें जारी करनी पडी जिस तरह की रिपोर्टें आ रही थी उससे लगने लगा था कि रोमियो से ज्यादा पुलिस पर अंकुश लगाने की जरूरत हो गयी है अन्यथा दूसरी तरह की अराजकता फैलने का अंदेशा पैदा होने लगा था। इसलिए इन्हें चेतावनी जारी करनी पडी कि पुलिस वाले किसी को नाजायज परेशान ना करें। यह विचित्र स्थिति बनती जा रही है कि अब रोमियों की बजाए पुलिस को ज्यादा समझाना पड रहा है। जहॉ तक एन्टी रोमियो अभियान की बात है तो सवाल उठ सकता है कि फिर एन्टी जूलियट अभियान क्यों नही ंचलाया जाना चाहिए?  मनचलों की तरह ही हाईवे पर वैश्यावृति, होटलों में कॉलगर्ल और सडकों पर मनचलियां भी काफी सक्रिय हैं। गुण्डागर्दी करने का उनका तरीका दूसरा है, लेकिन वे भी समस्यायें पैदा करती हैं। महिलाओं की बडी संख्या देह व्यापार में सक्रिय है इस तथ्य को झुठलाने की कोशिश बेईमानी है। वास्तव में किसी भी तरह की गुण्डागर्दी और अराजकता एक बडी समस्या है, चाहे वह महिला करे या पुरूष, इस धर्म का करे या उसे धर्म का, इस जाति का करे या उस जाति का हमें इन पचडों में फॅसने की बजाए समस्या पर बात करनी चाहिए। सैक्सुअली फ्रस्टेट लोगों के साथ साथ सडकों पर गुण्डागर्दी पर रोक लगाई जानी चाहिए। उस पर रोक लगाने की बजाए हम लडके-लडकियों तक ही बात करें कि वे गुण्डागर्दी कर रहे हैं यह अर्धसत्य है जो कि असत्यों से भी खतरनाक है। यह तथ्य ठीक है कि गुण्डागर्दी का सडक में खुलेआम प्रदर्शन बहुत सारी समस्याओं को पैदा करता है लेकिन इसे केवल इसी नजरिए से देखना किसी की भी समझ से परे है कि गुण्डागर्दी, लफंगागिरी और लम्पटपन केवल सैक्सुअल एक्टिविटी है इसके दसियों आयाम हैं।  लूट-मार, हत्यायें, डराना-धमकाना, हिकारत से देखना और अपमानित करना ये सभी गुण्डागर्दी है और सडकों पर खुलेआम होती है। लगभग हर ताकतवर अपने से अपेक्षाकृत कमजोर के साथ इसी तरह की गुण्डा गर्दी करता है। कभी आप रोमियो को रोकेगें और कभी आप जूलियटों को रोकगें इससे समस्या हल नहीं होगी और सारा प्रयास लोकप्रियता पाने का भौंडा प्रयास ही साबित हो जाऐगा। जब तक आप मूल समस्या को नहीं रोक पाते हैं तब तक आप मवाली और लम्पटों को पुलिस कार्यवाही से रोकने की कोशिश करेगें पुलिस फोर्स का केवल इस तरह इस्तेमाल करना नासमझी की हद है।



शनिवार, 25 मार्च 2017

सिर्फ मार्केटिंग से समाधान नहीं हो सकेगा।

बीस-पच्चीस और तीस साल पहले माधुरी दीक्षित, श्रीदेवी और हेमा मालिनी जैसी अभिनेत्रियां हाथ में लक्स साबुन लेकर कहती थी कि यदि खूबसूरत होना है तो  है तो लक्स से नहाओ। जाहिर है कि इस काम के लिए कम्पनियां इन्हें उस समय करोडों रूपये देती थी। लेकिन आज यदि ये ही अभिनेत्रियां कहने लगें कि लक्स से नहाओगे तो हमारी तरह हो जाओगे तो वे ही कम्पनियां नाराज हो जाऐगी जो उस समय इन्हें करोडों रूपये देती थी। आज हालत यह हैं कि ऐसा ना कहने के लिए कम्पनी शायद इन्हें पैसा भी दे दे। साबुन, अभिनेत्रियां और ग्राहक सभी वही हैं लेकिन दौर बदल गया है तो समीकरण भी बदल गये। जिस तरह आज लक्स साबुन को नयी अभिनेत्रियों की जरूरत है। उसी तरह धर्म, राष्ट्र और राजनीति के प्रतीक बदल गये हैं मायने बदल गये हैं,नारे बदल गये हैं। अमेरिका में ट्रंप को राष्ट्रवादी और भारत में मोदी और आदित्यनाथ को सांस्कृतिक राष्ट्रवादी के रूप में जिस तरह प्रचारित किया जा रहा है। उससे सवाल उठना स्वाभाविक है कि संस्कृति, राष्ट्र और राजनीति के इन नये अवतारों से क्या उम्मीद की जानी चाहिए। कहीं ऐसा तो नहीं कि वैश्विक स्तर पर आज जिस तरह पिछले काफी समय से इस्लाम और आतंकवाद को पर्यायवाची साबित करने की लगातार कोशिशें हो रही है यह नया राष्ट्रवाद और सांस्कृतिक अभियान उसकी ही अगली कडी हो। अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति जार्ज बुश ने  सभ्यताओं के टकराव की जो दलीलें पेश की थी और उन दलीलों के आधार पर पूरे मध्यपूर्व को बर्बर तरीके से रौंद दिया। लगभग वैसा ही आभाष हमारे यहॉ भी देने की कोशिशें हो रही हों। तीन तलाक-बूचडखाने और तमाम ऐसे संकेत दिये जा रहे है जैसे कि हमारे यहॉ भी सभ्यताओं के टकराव की स्थिति है जिसे हल करने के लिए मोदी और योगी फार्मूला कारगर है। विरोधाभाष दुनियां, देश और समाजों में ही नहीं होते है बल्कि व्यक्ति भी विरोषाभाषों से भरा है। विरोधाभाष हल कैसेे किये जाते हैं यह सवाल महत्वपूर्ण है। कांग्रेस और सभी विपक्षी पार्टियां आज इसी कारण अपनी प्रासंगिकता खो चुकी हैं क्योंकि ये विरोधाषों को हल कर पाने में विफल रही हैं। मोदी ने नये ढंग से इन विरोधाभाषों को हवा दी है। ऐसा नहीं है कि वे समाधान लेकर आये हैं। वे नयी समस्या लेकर आये हैं ताकी मूल और गम्भीर समस्याओं को छोटा साबित किया जा सके।  



शुक्रवार, 24 मार्च 2017

मोदी का सिकन्दर अभियान!

2014 में दिल्ली की सत्ता मोदी के हाथ में आने और 2017 में यू0पी0 की सत्ता आदित्यनाथ के हाथ में आने के बाद प्रगतिशीलता के मायने बदल से गये हैं। देश की दिशा और दशा को लेकर जिस तरह उत्तेजना का माहौल बनता सा दिख रहा है वह किसी की भी समझ से परे है। अयोध्या विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने जिस तरह टिप्पणी की और सुझाव दिये हैं उससे भी इस नई प्रगतिशीलता को जैसे पंख लग गये हैं। रोमियो अभियान और बूचडखाने लगातार चर्चा में बने हुए हैं, विपक्ष हताश, निराश और पस्त ही नहीं है बल्कि परिदृश्य से गायब ही हो गया लगता है, ऐसे में आने वाला दौर हमारे सामने कई सवाल खडे करता है जिनका जवाब हमें देना ही होगा। राष्ट्रवाद और संस्कृति की जिस तरह व्याख्यायें की जा रही है हमें समझना होगा कि ये व्याख्या हमारे राष्ट्र और संस्कृति के कितना करीब हैं। और जो लोग राष्ट्र और संस्कृति की झंडाबरदारी करने में लगे हैं ये कौन है? कुछ धूर्त और मक्कार लोग अपनी राजनीतिक महत्वाकाक्षांओं की पूर्ती के लिए यदि मनगढंत व्याख्यायें कर रहे हैं तो हमें इनकी नीयत और पाखंण्ड को बेनकाब करना होगां। अटल बिहार बाजपेई ने सत्ता में आने के लिए जिस तरह गठबन्धन राजनीति का व्यापक और अवसरवादी प्रयोग किया उससे आज की राजनीति का सामाजिक और राजनीतिक आधार समझ में आता है। कहा जा सकता है कि सत्ता के लोभ में पूरे देश के अपराधियों, जातिवादियों, क्षेत्रवादियों को एक बडा गठबन्धन सक्रिय है इसे इस देश से कुछ लेना देना नहीं है। यह आक्रामक अभियान पूरे देश का जीत लेना चाहता है जैसे सिकन्दर पूरे विश्व को जीतने निकला था उसकी जीत में कोई लोकप्रियता का पैमाना नहीं थी बल्कि आका्रमकता और हिंसा ही उसका तर्क और हथियार थी। मोदी ने इसी तर्क के सहारे कांग्रेस मुक्त भारत का नारा दिया है लेकिन कांग्रेस मुक्ति के बाद क्या होगा इसके बारे में मोदी कुछ नहीं कहते, उन्हीं  कांग्रेसियों को भाजपा में शामिल करते मोदी से ना तो कोई सवाल पूछता है और ना ही मोदी को जरा भी शर्म महसूस होती है। यू0पी चुनाव अभियान में मोदी ने कहा था कि यू0पी0 कैबिनेट की पहली बैठक में किसानों के कर्ज माफ किये जाऐगंे लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ और ना ही उसकी कोई उम्मीद है बल्कि वित्त मंत्री जेटली ने खुले तौर पर कह दिया है कि केन्द्र इस तरह को कोई निर्णय नहीं करेगा। फिर मोदी ने यह वायदा किस हैसियत से किया कोई नहीं पूछ रहा है। यू0पी0  बूचडखानों और रोमियो अभियान के उन्माद में डूबा है आदित्यनाथ और मोदी अब 2019 के चुनावी मोड में आ गये हैं फिलहाल मोदी ने  गुजरात और राजस्थान के सांसदो से ताकीद की है कि वे आने वाले विधान सभा चुनावों के लिए मुस्तैद रहें। सवाल यह है कि मोदी जीत हासिल करके क्या हासिल करना चाहते हैं क्या इतना काफी नहीं है कि वे अपनी रचनात्मकता दिखायें ताकी लोग  उन्हें पंसद करें औरअपना समर्थन दें, लेकिन वे जीत दर जीत किसलिए चाहते हैं इसका कोई जवाब वे नहीं देते हैं। अति किसी भी बात की बुरी ही होती है चाहे वह जीत ही क्यों ना हो।



बुधवार, 22 मार्च 2017

samay: भगत सिंह से भक्त सिंह तक ।

samay: भगत सिंह से भक्त सिंह तक ।: किसी भी व्यक्ति के लिए सपनों से अधिक मौलिक और कोई निजी चीज नहीं होती है, हर ख्वाब का अपना ही एक आकाश है, लेकिन यह भी सत्य है कि कुछ सपने ऐस...

भगत सिंह से भक्त सिंह तक ।

किसी भी व्यक्ति के लिए सपनों से अधिक मौलिक और कोई निजी चीज नहीं होती है, हर ख्वाब का अपना ही एक आकाश है, लेकिन यह भी सत्य है कि कुछ सपने ऐसे भी होते हैं जो सारी मौलिकताओं, निजताओं और यात्राओं को अपने में समाहित कर लेते हैं। भगत सिंह का ख्वाब भी ऐसा ही था। हम पाते हैं कि उन्होंने जो सपना देखा था वह हमारे ही सपनों का विस्तार है, हम उनमें ही कहीं खो से जाते हैं।  इसीलिए भगत सिंह रह रह कर याद आते हैं।  लेकिन हम इतने छोटी बुद्धि के चालाक व्यक्ति हैं कि उन पर हमारा भरोसा बनने के बावजूद भी हम खुद पर भरोसा नहीं करते हैं इसलिए हम कभी मोदी के सपनों का भारत बनाने में लग जाते हैं, कभी राहुल, लालू,  नितिश, अमरिंदर सिंह ,आदित्यनाथ और अमित साह के सपने पूरे करने में लग जाते हैं।  यह किसी के भी समझ से परे है कि हम दूसरों के सपनों का संसार नहीं पा सकते हैं। मोदी यदि कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हैं तो यह उनका अपना सपना है। वे गरीबी मुक्त भारत की बात बिल्कुल नहीं कर सकते हैं आने वाली शताब्दियों तक वे इसका भरोसा नहीं दे सकते हैं यकीनन वे विकास की बात कर सकते है क्योंकि विकास गरीबी का भी हो सकता है, बेरोजगार से लेकर मंहगाई तक हर समस्या विकास/विस्तार लेती जा रही है। वे 2019 और 2024 की बातें करते हैं तो यह उनकी चाहत है। हम उनकी चाहत पूरी करने में जुटे हैं। कोई सत्ता में वापसी करना चाहता है बाकी लोग मोदी रोको के नारे लगाकर उसमें अपने सपने देख रहे है। यदि हम निरपेक्ष होकर केवल अपने ही सपने देखें तो पायेगें कि हम सबके सपने पूरे होने का एक ही तरीका है और वह है भगत सिंह का रास्ता। लेकिन यह भी सच है कि हम चाह कर भी दूसरों के रास्ते में नहीं चल सकते हैं चाहे वह भगत सिंह का ही रास्ता क्यों ना हो। हम अपने ही रास्ते चलकर भगत सिंह के करीब कैसे हो सकते हैं उनसे जान पहचान बढाई जाए फिलहाल तो इतना ही काफी होगा। भगत सिंह ने कल्पना भी नहीं की होगी कि आने वाला दौर भक्तों का हो सकता है। मायावती से लेकर ममता ,मुलायम, लालू अखिलेश, कांग्रेस या मोदी ये सभी ऐसे भक्तों के ही सहारे हैं जो अपने सपने भूलकर इनके सपने पूरे करने में लगे हैं।



सोमवार, 20 मार्च 2017

samay: राजनीति का उपभोक्तावाद।

samay: राजनीति का उपभोक्तावाद।:       केन्द्र में मोदी के उदय और देश के सबसे बडी आवादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश की बागडोर एक सन्यासी के हाथ में आ जाने के बाद यह सवाल पूछा ज...

राजनीति का उपभोक्तावाद।

      केन्द्र में मोदी के उदय और देश के सबसे बडी आवादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश की बागडोर एक सन्यासी के हाथ में आ जाने के बाद यह सवाल पूछा जाने लगा है कि क्या देश की दिशा बदल रही है? मोदी को आशातीत बहुमत मिलने के बाद भी लोग बहुत परेशान नहीं हुए, बीते इन तीन सालों में वैसा कुछ हुआ भी नहीं जिससे घबराहट फैले, लेकिन आदित्यनाथ द्वारा मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने से अब कुछ तटस्थ लोगों में भी घबराहट होने लगी है। कि आखिर माजरा क्या है? हांलाकि मायावती के खिलाफ अपमानजनक बात कहने वाले दयाशंकर को चुनाव जीतते ही जिस तरह वापस लिया गया और उत्तर प्रदेश में दंगे के कुछ आरोपी लोगों को पहले निर्वाचन के बाद ही जिस तरह मंत्रीमण्डल में शामिल किया गया उसे संकेत ही माना जा रहा है। भाजपा संकेत की भाषा पर बहुत अधिक भरोसा करती है। लेकिन अब स्थिति इस मामले में बदल गयी है कि संकेत देने वाले बलपूर्वक भी अपनी बात लागू करने की वैधानिक हैसियत में आ गये हैं। जानकार लोगों का मानना है कि यह संकट मूल रूप से साम्प्रदायिकता का नहीं अर्थव्यवस्था की असफलता का है। नोटबंदी को लोगों के व्यापक समर्थन के बावजूद मोदी अर्थव्यवस्था में कुछ कर पाने में बुरी तरह असफल रहे हैं। साम्प्रदायिक राजनीति को मोदी ने आधुनिकता और प्रगतिशीलता के अवतार के रूप में जिस तरह पेश किया उसे लोगों ने स्वीकार तो कर लिया लेकिन इसका कोई सकारात्मक परिणाम सामने नहीं आ पाया है, इसकी कोई उज्जवल तस्वीर भी दिखाई नहीं पडती है। कुल मिलाकर देश अब दोराहे पर है। मोदी इस खतरे को भॉप चुके हैं। इसलिए आदित्यनाथ के गियर में राजनीति को डालना उनकी मजबूरी है। लोग जिस तरह साम्प्रदायिकता को हिन्दू या मुसलमान साम्प्रदायिकता के रूप में देखते हैं यह नजरिया ठीक नहीं है। साम्प्रदायिकता दूसरे साम्प्रदायिक तर्कों के सहारे ही चल पाती है इसका अपना ना तो कोई गणित होता है और ना ही कोई विज्ञान। अब तक कांग्रेस और वामपंथी इसका फायदा उठाते रहे अब मोदी और उनके साथी इसका फायदा उठा रहे हैं। जब भी अर्थव्यवस्थाओं और सत्ताओं के संकट गहराते हैं तभी साम्प्रदायिकता के सहारे  वे समस्या से बच निकलने की कोशिश करते हैं अमेरिका में ट्रंप की राजनीति हो या फिर भारत में मोदी की राजनीति इसमें कोई गहराई नहीं है सिर्फ चतुराई है। जब तक लोग इस पूरी राजनीति के विकल्प पर बात नहीं करते तब तक हालात में कोई बदलाव नहीं आयेगा। आदित्यनाथ जैसा साफ तौर पर बोलते हैं मोदी ठीक वैसा ही अपनी भाव-भंंिगमा से जाहिर करते हैं समझ दोनों की एक ही है। लोगों के सामने अजीब स्थिति इसलिए भी आ गयी है कि राजनीति को हमने अपने जीवन से बाहर कर दिया और कुछ पेशेवर लोगों के ही हाथ में सारी राजनीति सौपं दी। कमोवेश हम राजनीति के उपभोक्ता हो गये  जिसकी राजनीतिक पैकेजिंग आकर्षक और आक्रामक हो हम उसके पीछे हो लिए। संक्षेप में कहा जा सकता है कि सारे सूत्र हमारे हाथ से बाहर हो गये हैं और हम राजनीति के तमाशबीन की हैसियत तक ही सीमित रह गये हैं।

रविवार, 19 मार्च 2017

उत्तर प्रदेश में जोगीरा सरररररर।

भारतीय राजनीति में इस समय जिन दो योगियों का जलवा है आदित्यनाथ उनमें से एक हैं। सांसद होने के बाद भी आदित्यनाथ को पूरे देश में उस तरह पहचान अब तक नहीं मिली थी जैसी कि रामदेव को काफी पहले से देश में जाना जाता है। हालांकि रामदेव की पहचान एक चतुर व्यापारी से अधिक नहीं है और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री बनने के बावजूद आदित्यनाथ की छवि तपस्वी,  ऋषि-मुनी, ज्ञानी-ध्यानी से अधिक दंबग की रही है। पूर्वाचंल क्षेत्र में दबंगई को काफी हद तक प्रतिष्ठा का प्रतीक माना जाता है जिस तरह हरिशंकर तिवारी को एक दबंग राजनीतिज्ञ कहा जाता था, आदित्यनाथ उसी का आध्यात्मिक तेवर कहे जा सकते हैं। दबंग कोई गुंडा हो तो उससे अधिक प्रतिष्ठा राजनीतिज्ञ दबंग की होती है और राजनीतिज्ञ दंबग से अधिक प्रतिष्ठा आध्यात्मिकता का पुट लिए दबंगई की होती है इसका अपना ही ग्लैमर है। इसीलिए तमाम धर्मगुरूओं और मौलवियों का इतना आकर्षण है। मोदी ने इस ग्लैमर का इस्तेमाल करने की कोशिश की है, सभी जानते हैं कि नोटबंदी के बाद जिस तरह अराजकता की स्थिति हो गयी थी तब अरूण जेटली का बयान आया कि पन्द्रह बीस दिनों में स्थिति सामान्य हो जाऐगी लेकिन  स्थिति यथावत ही रही लोगों को अच्छी तरह याद है कि लगभग बदहवास हालत में मोदी ने एक सभा में कहा कि वे मुझे मार डालेगें, मेरा क्या मैं तो एक फकीर हूॅ झोला लेकर चल दूॅगा लेकिन गरीबो की लडाई मैं लडते रहूॅगा। अंधेरे में चलाया उनका यह तीर लोगों के मर्म को भेद गया और  स्थिति मोदी के खिलाफ होने से बच गयी। आज मोदी ने एक ऐसे ही फकीर पर दॉव खेला है जो काफी पहले झोला लेकर घर से निकल गया था। आदित्यनाथ पर दॉव खेलना अब मोदी का अन्तिम विकल्प  है। स्टार्ट अप से लेकर स्वच्छ भारत, मेक इंन इंडिया से शौचालय अभियान तक मोदी के जुमले चलते रहे लेकिन नोटबंदी  से हुए असर के बाद मोदी के हाथ-पॉव फूल गये हैं। वे चाहते हैं कि महंत, बाबा और मन्दिर की ओर चला जाए। आदित्यनाथ तो महज इसकी शुरूआत हैं। सैल्फी वाले बाबा को आभाष हो गया है कि आधुनिकता के चक्कर में वे अपनी जमीन भी खो सकते है। इसलिए ”उड जहाज को पंछी फिर जहाज पर आवै“।